//]]>
---Third party advertisement---

घर में ये जानवर जरूर पालने चाहिए, इनके होने से पैसों की नहीं होती कभी कमी

 


अक्सर आपने देखा कि गांव और कस्बों में लोग गाय, भैंस, बकरी और मुर्गी पालते हैं. कुछ लोग कुत्ता, बिल्ली, खरगोश और मछलियां पालते हैं. वास्तु के मुताबिक, इनमें से कुछ जीवों को घर में पालना अनलकी माना जाता है तो वहीं कुछ पशु-पक्षी ऐसे भी होते हैं जिनको पालने से घर में खुशहाली आती है.

ज्योतिष के मुताबिक किसी भी व्यक्ति को अपने ग्रह और नक्षत्र के मुताबिक ही जानवर पालना चाहिए. इससे वह जानवर उनके लिए लकी साबित होता है और धन में धन समृद्धि बनी रहती है. ऐसे जानवर आपके जीवन पर आने वाले संकट भी टालते हैं. चलिए बताते हैं आपको कौन से हैं ये लकी जानवर...

हिंदू धर्म की मान्यताओं के मुताबिक, कुत्ते को भैरवजी का सेवक माना जाता है. कुत्ते को पालने से भैरव बाबा आपके परिवार पर आने वाले सभी संकटों को दूर करते हैं. इससे आपके घर में धन का आगमन होता है और लक्ष्मीजी का वास सदैव बना रहता है. इसके साथ ही ज्योतिष में यह भी बताया गया है कि कुत्ते को पालने से किसी व्यक्ति के अशुभ ग्रह भी शुभ ग्रह में तब्दील हो जाते हैं.

यदि किसी वजह से आप कुत्ता पालने में सक्षम नहीं हैं या फिर आपके घर जगह का अभाव है तो आप रोजाना कुत्ते को एक रोटी जरूर खिलाएं. ऐसा करने से आपकी आर्थिक स्थिति में धीरे-धीरे सुधार होने लगता है.फेंगशुई और वास्तु दोनों में मछली को बेहद शुभ माना जाता है. वहीं भगवान विष्णु के मत्स्यावतार के कारण भी मछली का धार्मिक महत्व काफी अधिक है. घर में मछलियों को रखने से दरिद्रता दूर होती है और पॉजिटिव एनर्जी का प्रवेश होता है. साथ ही घर में सुख शांति बन रहती है.

खरगोश देखने में बहुत प्यारा लगता है. कहा जाता है कि घर में रखने से आपको गुडलक मिलता है और घर में शुद्धता आती है. इसके साथ ही घर नकारात्मक ऊर्जा दूर होकर सकारात्मक ऊर्जा का संचार बढ़ जाता है. वास्तु में भी खरगोश को सुख समृद्धि का प्रतीक माना जाता है. वास्तु में भी कछुए को गुडलक का चिह्न माना जाता है. यदि कछुआ पालना आपके घर में संभव न हो तो आप तांबे या फिर चांदी का कछुआ भी अपने घर में रख सकते हैं. ऐसा करने से वैभव और ऐश्वर्य भी बढ़ता है. 
महिलाओं के सारे राज खोल देते हैं ये 2 अंग , जानिये उनकी हर छुपी हुई ख़ास बात

Shimla, Mandi, Kangra, Chamba, Himachal, Bihar, Muzaffarpur, East Champaran, Kanpur, Darbhanga, Samastipur, Nalanda, Patna, Muzaffarpur, Jehanabad, Patna, Nalanda, Araria, Arwal, Aurangabad, Katihar, Kishanganj, Kaimur, Khagaria, Gaya, Gopalganj, Jamui, Jehanabad, Nawada, West Champaran, Purnia, East Champaran, Buxar, Banka, Begusarai, Bhagalpur, Bhojpur, Madhubani, Madhepura, Munger, Rohtas, Lakhisarai, Vaishali, Sheohar, Sheikhpura, Samastipur, Saharsa, Saran, Sitamarhi, Siwan, Supaul,Gujarat, Ahmedabad, Vadodara, Surat, Rajkot, Vadodara, Junagadh, Anand, Jamnagar, Gir Somnath, Mehsana, Kutch, Sabarkantha, Amreli, Kheda, Rajkot, Bhavnagar, Aravalli, Dahod, Banaskantha, Gandhinagar, Bhavnagar, Jamnagar, Valsad, Bharuch , Mahisagar, Patan, Gandhinagar, Navsari, Porbandar, Narmada, Surendranagar, Chhota Udaipur, Tapi, Morbi, Botad, Dang, Rajasthan, Jaipur, Alwar, Udaipur, Kota, Jodhpur, Jaisalmer, Sikar, Jhunjhunu, Sri Ganganagar, Barmer, Hanumangarh, Ajmer, Pali, Bharatpur, Bikaner, Churu, Chittorgarh, Rajsamand, Nagaur, Bhilwara, Tonk, Dausa, Dungarpur, Jhalawar, Banswara, Pratapgarh, Sirohi, Bundi, Baran, Sawai Madhopur, Karauli, Dholpur, Jalore,Haryana, Gurugram, Faridabad, Sonipat, Hisar, Ambala, Karnal, Panipat, Rohtak, Rewari, Panchkula, Kurukshetra, Yamunanagar, Sirsa, Mahendragarh, Bhiwani, Jhajjar, Palwal, Fatehabad, Kaithal, Jind, Nuh,

Post a Comment

0 Comments