//]]>
---Third party advertisement---

उत्तर प्रदेश में फिर बनेगी योगी—मोदी की सरकार, ओपिनियन पोल का दावा— अखिलेश यादव को होगा फायदा

 


उत्तर प्रदेश में फिर बनेगी योगी—मोदी की सरकार, ओपिनियन पोल का दावा— अखिलेश यादव को होगा फायदा सपा को जबर्दस्त फायदा, BJP को कितनी सीटें? आया एक और ओपिनियन पोल : उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी फिर सत्ता हासिल करने में कामयाब रहेगी या समाजवादी पार्टी बाजी पलट देगी? या फिर कांग्रेस या बसपा पिछले चुनाव के खराब प्रदर्शन के उलट इस बार कोई चमत्कार कर पाएंगी? भले ही इन सवालों का सटीक जवाब 10 मार्च को मिलेगा, लेकिन सीवोटर-एबीपी न्यूज के ओपिनियन पोल के बाद टाइम्स नाउ के ओपिनियन पोल में भी बीजेपी की जीत की भविष्यवाणी की गई है। सपा 2017 के मुकाबले भारी बढ़त हासिल करती दिख रही है, लेकिन बसपा और कांग्रेस के प्रदर्शन में सुधार होता नहीं दिखाया गया है।

टाइम्स नाउ की ओर से सोमवार रात प्रसारित ओपनियन पोल में कहा गया है कि यूपी की 403 सीटों वाली विधानसभा में बीजेपी आसान जीत दर्ज करेगी। हालांकि, बीजेपी पिछली बार की तरह 300 पार तो जाती नहीं दिख रही है। प्री-पोल सर्वे के मुताबिक, बीजेपी को 227 से 254 सीटें मिल सकती हैं। सपा गठबंधन को 136 से 151 सीटें मिल सकती हैं। यूपी की चार बार सीएम रहीं मायावती की पार्टी बीएसपी का बुरा दौर जारी रह सकता है। पार्टी महज 8 से 14 सीटों पर सिमट सकती है। वहीं, प्रियंका गांधी की मेहनत के बावजूद कांग्रेस के हाथ महज 6-11 सीटें आने की संभावना जताई गई है।

सीएम पद के लिए योगी सबसे लोकप्रिय: सर्वे
ओपिनियन पोल के नतीजे बताते हैं कि मुख्यमंत्री पद के लिए योगी आदित्यनाथ सबसे लोकप्रिय उम्मीदवार हैं। सर्वे में हिस्सा लेने वाले 53.4 फीसदी लोगों ने कहा कि वह एक बार फिर योगी को सीएम देखना चाहते हैं। दूसरे नंबर पर अखिलेश यादव हैं। 31.5 फीसदी लोग इस बार सपा अध्यक्ष को मौका देना चाहते हैं। वहीं, 11.5 फीसदी ने मायावती को पसंद बताया तो कांग्रेस महासचिव को महज 2.5 फीसदी लोगों ने वोट किया।

सी वोटर और एबीपी न्यूज के ताजा ओपिनियन पोल के मुताबिक यूपी में एक बार फिर योगी सरकार बन सकती है। बीजेपी का कमल 223 से 235 सीटों पर खिल सकता है। अखिलेश यादव के नेतृत्व में समाजवादी पार्टी 2017 के मुकाबले काफी बढ़त हासिल करती दिख रही है, लेकिन सत्ता से दूर रह सकती है। सपा 145 से 157 सीटें जीत सकती है। बीएसपी का हाथी अब भी 2017 की सुस्त चाल से ही चलता दिख रहा है। बीएसपी को 8 से 16 सीटों से संतोष करना पड़ सकता है तो कांग्रेस के हाथ में 0-3 सीटें ही आने की संभावना जताई गई है। अन्य के खाते में 4-8 सीटें जा सकती हैं। इन्हे भी जरूर पढ़ें

Shimla, Mandi, Kangra, Chamba, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, #बिहार, #मुजफ्फरपुर, #पूर्वी चंपारण, #कानपुर, #दरभंगा, #समस्तीपुर, #नालंदा, #पटना, #मुजफ्फरपुर, #जहानाबाद, #पटना, #नालंदा, #अररिया, #अरवल, #औरंगाबाद, #कटिहार, #किशनगंज, #कैमूर, #खगड़िया, #गया, #गोपालगंज, #जमुई, #जहानाबाद, #नवादा, #पश्चिम चंपारण, #पूर्णिया, #पूर्वी चंपारण, #बक्सर, #बांका, #बेगूसराय, #भागलपुर, #भोजपुर, #मधुबनी, #मधेपुरा, #मुंगेर, #रोहतास, #लखीसराय, #वैशाली, #शिवहर, #शेखपुरा, #समस्तीपुर, #सहरसा, #सारण #सीतामढ़ी, #सीवान, #सुपौल,

Post a Comment

0 Comments