//]]>
---Third party advertisement---

बिहार में घर बैठे मिलेगा जमीन का नक्शा, खर्च होंगे सिर्फ ₹150, करना होगा ये काम

 

PATNA-बिहार में अक्सर ऐसा देखने को मिलता कि जमीन के नक्शे (Map Of Land) के लिए लोगों को सरकारी कार्यालयों (Government Offices) में घंटों इंतजार करना पड़ता है. वहीं कई बार तो इंतजार के बाद भी उन्हें अपने जमीन का नक्शा नहीं मिल पता है. लेकिन, अब वैसे के लोगों के राहत भरी खबर आई है. दरअसल बिहार सरकार एक खास योजना शुरू करने जा रही है, जिसके बाद लोगों को घर बैठे जमीन का नक्शा मिल जाएगा. मिली जानकारी के अनुसार बिहार सरकार के राजस्व विभाग की ओर से जल्द ही एक सिस्टम शुरू किया जाएगा जिसके तहत लोगों को अपने जमीन का नक्शा बड़ी आसानी से मिल जाएगा. इस व्यवस्था के शुरू होते ही सरकारी कार्यालयों में घंटों चक्कर लगाने वाले रैयतों को काफी राहत मिलेगी.


बता दें, नक्शा घर मंगवाने के लिए लोगों कुछ तरीकों को अपनाना होगा जिसके बाद राजस्व विभाग की ओर से जमीन का नक्शा सीधे लोगों के घर भेज दिया जाएगा. सबसे पहले लोगों को भू-अभिलेख और परिमाप निदेशालय की वेबसाइट dlrs.bihar.gov.in पर जाना होगा, जहां उन्हें doorstep delivery system के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा. इसके बाद लोगों को एक ऑनलाइन आवेदन फॉर्म भरना होगा. फॉर्म भरने के साथ ही लोगों को ऑनलाइन 150 रुपये जमा भी करना होगा. आवेदन के कुछ दिन बाद नक्शा आपके घर पर डिलीवर कर दिया जाएगा.

दलाओं पर लगेगा लगाम, रुकेगी अवैध वसूली
बताया जाता है कि बिहार में यह व्यवस्था पिछले साल जुलाई में ही शुरू होनी थी. लेकिन, तकनीकी कारणों की वजह से यह सिस्टम शुरू नहीं हो पाया था. जानकारी के अनुसार अब सारी दिक्कतों को दूर कर लिया गया है और जल्द ही बिहार में इस व्यवस्था को शुरू कर दी जाएगी. इस व्यवस्था के शुरू होने से दलालों पर भी लगाम लगेगा. वर्तमान में कई लोग जल्दी नक्शा निकलवाने के लिए दलाओं का भी सहारा लेते हैं और कुछ पैसे देकर नक्शा निकलवा लेते हैं. अब ऐसे में नक्शा निकालने के नाम पर अवैध वसूली पर भी रोक लगेगी.

बिहार में सबसे पहले शुरू हो रही है व्यवस्था
मिली जानकारी के अनुसार बिहार पूरे देश में पहला ऐसा राज्य है जहां ऑनलाइन आवेदन देकर घर पर नक्शा मंगवाने की सुविधा शुरू की जा रही रही है. अब तक किसी दूसरे राज्य में इस सिस्टम को शुरू नहीं किया गया है. इस व्यवस्था के शुरू होने से लोगों को भी सहूलियत होगी कि वे नक्शे के अनुसार आसानी से अपने जमीन की मापी करा सकेंगे. वहीं आसानी के नक्शा मिलने पर जमीन विवाद के मामलों में भी कमी देखने को मिल सकती है. इन्हे भी जरूर पढ़ें

Shimla, Mandi, Kangra, Chamba, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, #बिहार, #मुजफ्फरपुर, #पूर्वी चंपारण, #कानपुर, #दरभंगा, #समस्तीपुर, #नालंदा, #पटना, #मुजफ्फरपुर, #जहानाबाद, #पटना, #नालंदा, #अररिया, #अरवल, #औरंगाबाद, #कटिहार, #किशनगंज, #कैमूर, #खगड़िया, #गया, #गोपालगंज, #जमुई, #जहानाबाद, #नवादा, #पश्चिम चंपारण, #पूर्णिया, #पूर्वी चंपारण, #बक्सर, #बांका, #बेगूसराय, #भागलपुर, #भोजपुर, #मधुबनी, #मधेपुरा, #मुंगेर, #रोहतास, #लखीसराय, #वैशाली, #शिवहर, #शेखपुरा, #समस्तीपुर, #सहरसा, #सारण #सीतामढ़ी, #सीवान, #सुपौल,

Post a Comment

0 Comments