//]]>
---Third party advertisement---

बिहार के इस पुल को 19 साल लगे बनने में, आखिरकार 25 दिसंबर को होगा उद्घाटन

 



बिहार के मुंगेर नदी बन रहे पुल निर्माण का कार्य जोरों पर है. 25 दिसंबर को मुंगेर पुल का उद्घाटन किया जाएगा. ऐसे में पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने गंगा नदी पर बने रेल सह सड़क पुल के एप्रोच पथ निर्माण कार्य का जायजा लिया. इस मौके पर मंत्री नवीन ने कहा कि योजनाओं को चुनौती पूर्ण लिए जाने के बाद ही योजनाएं पूरी हो पाती हैं. उन्होंने कहा कि दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती के अवसर पर 25 दिसंबर को ही इस रेल सह सड़क पुल में से सड़क पुल का उद्घाटन होगा. मिली जानकरी के मुताबिक, राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पुल का उद्घाटन करेंगे. वहीं, वर्चुअल माध्यम से केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी मौजूद रहेंगे.

बिहार सरकार के पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने बुधवार को मुंगेर में गंगा नदी पर बने रेल सह सड़क पुल के एप्रोच पथ निर्माण कार्य का जायजा लिया. निर्माण कार्य का जायजा लेते समय पथ निर्माण विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्य अमृत और NHAI CJM कर्नल विष्ट साथ में थे. बांक काली स्थान के पास से इन्होंने एप्रोच पथ निर्माण कार्य का जायजा लेना शुरू किया.

नंदनलालपुर,चुरम्बा, नयागांव काला पत्थर,चौखण्डी, चंडीस्थान होते हुए सुपर स्ट्रक्चर के पास पहुंचे जहां पर एप्रोच पथ निर्माण कार्य एजेंसी के कार्यालय में निर्माण कार्य एजेंसी के अधिकारियों, अभियंता व जिला प्रशासन के आला अधिकारियों के साथ बैठक की. निर्माण कार्य का जायजा लेते समय नयागांव काला पत्थर के पास स्थानीय ग्रामीणों ने पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन कि गाड़ी को रोका और वहां पर से लिंक रोड देने कि मांग कि जिसपर पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने अपनी सहमति जताई.

एप्रोच पथ निर्माण कार्य एजेंसी के कार्यालय में निर्माण कार्य एजेंसी के अधिकारियों, अभियंता व जिला प्रशासन के आला अधिकारियों के साथ की गई बैठक के पथ निर्माण मंत्री किला परिसर स्थित सर्किट हाउस पहुंचे. एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर पत्रकारों को जानकारी दी के वर्ष 2003 में माननीय अटल जी के समय मे इस पुल के कार्य को शुरू किया गया उस वक्त माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार उस समय मंत्री थे.

विगत 19 सालों में काफी उठा पटक के बाद ये कार्य अब पूरा होने को है कार्य पूरा करने के दौरान एक बड़ी समस्या थी. एप्रोच पथ के रास्ते मे लगभग 6 सौ मीटर में आम लोगों का घर था, जिसे 80 करोड़ रुपये देकर तुड़वाया गया. इसके बाद लोगों के लिए चुनौती थी की इस प्रोजेक्ट को समय पर पूरा की जाए, जिसके लिए हम लोगो 25 दिसम्बर को अटल जी की जयंती पर इस पुल के उद्घाटन का लक्ष्य रखा था. इन्हे भी जरूर पढ़ें

Shimla, Mandi, Kangra, Chamba, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, #बिहार, #मुजफ्फरपुर, #पूर्वी चंपारण, #कानपुर, #दरभंगा, #समस्तीपुर, #नालंदा, #पटना, #मुजफ्फरपुर, #जहानाबाद, #पटना, #नालंदा, #अररिया, #अरवल, #औरंगाबाद, #कटिहार, #किशनगंज, #कैमूर, #खगड़िया, #गया, #गोपालगंज, #जमुई, #जहानाबाद, #नवादा, #पश्चिम चंपारण, #पूर्णिया, #पूर्वी चंपारण, #बक्सर, #बांका, #बेगूसराय, #भागलपुर, #भोजपुर, #मधुबनी, #मधेपुरा, #मुंगेर, #रोहतास, #लखीसराय, #वैशाली, #शिवहर, #शेखपुरा, #समस्तीपुर, #सहरसा, #सारण #सीतामढ़ी, #सीवान, #सुपौल,

Post a Comment

0 Comments