//]]>
---Third party advertisement---

दूध बेचने वाला बना बैंक का मालिक! जानिए बंधन बैंक के सीईओ चंद्रशेखर घोष की कहानी

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती…आज आपको बता रहे हैं ऐसी ही शख्सियत के बारे में जिसने इस पंक्ति को चरितार्थ किया है. एक दूध बेचने वाला इंसान बड़े बैंक का मालिक बन जाए तो उन्हें सलाम करने लाज़िमी है. आज हम आपको बता रहे हैं बंधन बैंक (Bandhan Bank) के मालिक चंद्रशेखर घोष (Chandrashekhar Ghosh, Bandhan Bank CEO) की जो कभी घर खर्च के लिए दूध बेचने का काम करते थे.


चंद्रशेखर के पास पढ़ाई के लिए पैसे नहीं थे तब बच्चों को ट्यूशन पढ़ाकर उन्होंने अपनी पढ़ाई पूरी की. इसके बाद उनके भीतर महिलाओं के मदद की भावना आई और उन्होंने बंधन बैंक की नींव रखी. एक साधारण सी सोच की वैल्यू आज 30 हजार करोड़ से भी अधिक हो चुकी है. बंधन बैंक (Bandhan Bank) के बारे में आप सभी जानते होंगे लेकिन आज जानिए इसके सीईओ और मैनेजिंग डायरेक्टर चंद्रशेखर घोष (chandrashekhar ghosh) के बारे में.

कभी दूध बेचा करते थे चंद्रशेखर घोष

चंद्रशेखर घोष एक साधारण सी मिठाई बेचने वाले के बेटे थे. त्रिपुरा के अगरतला में जन्मे चंद्रशेखर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने की वजह से वो बचपन में दूध बेचने का काम करते थे. उन्होंने आश्रम के खाने से पेटा पाला और बच्चों को ट्यूशन पढ़ाकर अपनी पढ़ाई पूरी की. उनके पिता मिठाई की छोटी सी दुकान चलाते थे और चाहते थे कि वह खूब पढ़ें, लेकिन एक साधारण सी मिठाई की दुकान से घर चलाने के साथ-साथ बच्चे को अच्छी और उच्च शिक्षा देना मुमकिन नहीं था. ऐसे में चंद्रशेखर घोष ने अपनी मेहनत के बलबूते बच्चों को ट्यूशन पढ़ाकर ढाका यूनिवर्सिटी से सांख्यिकी में मास्टर्स की डिग्री हासिल की.
एक सोच ने बदल दी जिंदगी

चंद्रशेखर घोष ने परिवार की मदद के लिए हर महीने सिर्फ 5000 रुपये पगार पर काम किया. लेकिन घोष ने अपनी किस्मत तो खुद तय किया था. एक साधारण जिंदगी के लिए नहीं बने थे घोष. साल 1990 के अंत में बांग्लादेश में महिला सशक्तिकरण के लिए काम करने वाली विलेज वेलफेयर सोसाएटी नाम के एक एनजीओ ने उन्हें प्रोग्राम हेड के रूप में नियुक्त किया.
वहां उन्होंने देखा कि गांव की महिलाएं छोटी सी आर्थिक सहायता से भी काम शुरू कर के अपना जीवन स्तर बेहतर कर रही हैं. यहां उनके भीतर का अरबपति पहली बार जगा था. उन्होंने सोचा कि क्यों ना ऐसी महिलाओं को आर्थिक सहायता दी जाए. इससे बहुत सारे छोटे-छोटे उद्योगों की शुरुआत होगी और महिलाओं के साथ-साथ देश की भी तरक्की होगी.
साहूकार लेता था 700 फीसदी ब्याज!

चंद्रशेखर घोष ने देखा कि एक सब्जी वाला एक साहूकार से रोज 500 रुपये उधार लेता था. उन पैसों से वह सब्जी लाता था और दिन भर उसे बेचने के बाद शाम को साहूकार को 500 रुपये का मूल उसके ब्याज के साथ चुका देता था. चंद्रशेखर घोष ने यहां पूरी कैल्कुलेशन की और समझा कि वह सब्जीवाला साहूकार को सालाना 700 फीसदी की दर से ब्याज दे रहा है. यही घटना ने बंधन बैंक बनने की वजह बना.
आज 30 हजार करोड़ का हो गया है बंधन बैंक

वर्तमान में पूरे देश में बंधन बैंक की 2000 से भी अधिक शाखाएं हैं और इसकी वैल्यू 30 हजार करोड़ रुपये से भी अधिक हो गई है. इसमें सिर्फ महिलाओं की मेंबरशिप है और रिकवरी रेट 100 फीसदी है. 2011 में विश्वबैंक की एक सहायक इकाई इंटरनेशनल फाइनेंस कॉरपोरेशन ने बंधन बैंक में 135 करोड़ रुपये का निवेश किया था. बहुत सी महिलाओं को बंधन बैंक से काफी मदद मिली. इन्हे भी जरूर पढ़ें
  • महिलाओं के सारे राज खोल देते हैं ये 2 अंग , जानिये उनकी हर छुपी हुई ख़ास बात
  • 8 साल बने रहे पति-पत्नी, पोस्टमार्टम में उतारे कपडे तो उडे डाक्टर के होश, दिखा कुछ ऐसा
  • यहां महिलाएं मुंह की बजाय गुप्तांग में दबाती है तंबाकू, वजह जानकर उड़ जायेंगे होश
  • Shimla, Mandi, Kangra, Chamba, Himachal, Punjab, Ludhiana, Jalandhar, Amritsar, Patiala, Sangrur, Gurdaspur, Pathankot, Hoshiarpur, Tarn Taran, Firozpur, Fatehgarh Sahib, Faridkot, Moga, Bathinda, Rupnagar, Kapurthala, Badnala, Ambala,Uttar Pradesh, Agra, Bareilly, Banaras, Kashi, Lucknow, Moradabad, Kanpur, Varanasi, Gorakhpur, Bihar, Muzaffarpur, East Champaran, Kanpur, Darbhanga, Samastipur, Nalanda, Patna, Muzaffarpur, Jehanabad, Patna, Nalanda, Araria, Arwal, Aurangabad, Katihar, Kishanganj, Kaimur, Khagaria, Gaya, Gopalganj, Jamui, Jehanabad, Nawada, West Champaran, Purnia, East Champaran, Buxar, Banka, Begusarai, Bhagalpur, Bhojpur, Madhubani, Madhepura, Munger, Rohtas, Lakhisarai, Vaishali, Sheohar, Sheikhpura, Samastipur, Saharsa, Saran, Sitamarhi, Siwan, Supaul,Gujarat, Ahmedabad, Vadodara, Surat, Rajkot, Vadodara, Junagadh, Anand, Jamnagar, Gir Somnath, Mehsana, Kutch, Sabarkantha, Amreli, Kheda, Rajkot, Bhavnagar, Aravalli, Dahod, Banaskantha, Gandhinagar, Bhavnagar, Jamnagar, Valsad, Bharuch , Mahisagar, Patan, Gandhinagar, Navsari, Porbandar, Narmada, Surendranagar, Chhota Udaipur, Tapi, Morbi, Botad, Dang, Rajasthan, Jaipur, Alwar, Udaipur, Kota, Jodhpur, Jaisalmer, Sikar, Jhunjhunu, Sri Ganganagar, Barmer, Hanumangarh, Ajmer, Pali, Bharatpur, Bikaner, Churu, Chittorgarh, Rajsamand, Nagaur, Bhilwara, Tonk, Dausa, Dungarpur, Jhalawar, Banswara, Pratapgarh, Sirohi, Bundi, Baran, Sawai Madhopur, Karauli, Dholpur, Jalore,Haryana, Gurugram, Faridabad, Sonipat, Hisar, Ambala, Karnal, Panipat, Rohtak, Rewari, Panchkula, Kurukshetra, Yamunanagar, Sirsa, Mahendragarh, Bhiwani, Jhajjar, Palwal, Fatehabad, Kaithal, Jind, Nuh, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, #बिहार, #मुजफ्फरपुर, #पूर्वी चंपारण, #कानपुर, #दरभंगा, #समस्तीपुर, #नालंदा, #पटना, #मुजफ्फरपुर, #जहानाबाद, #पटना, #नालंदा, #अररिया, #अरवल, #औरंगाबाद, #कटिहार, #किशनगंज, #कैमूर, #खगड़िया, #गया, #गोपालगंज, #जमुई, #जहानाबाद, #नवादा, #पश्चिम चंपारण, #पूर्णिया, #पूर्वी चंपारण, #बक्सर, #बांका, #बेगूसराय, #भागलपुर, #भोजपुर, #मधुबनी, #मधेपुरा, #मुंगेर, #रोहतास, #लखीसराय, #वैशाली, #शिवहर, #शेखपुरा, #समस्तीपुर, #सहरसा, #सारण #सीतामढ़ी, #सीवान, #सुपौल,

Post a Comment

0 Comments