//]]>
---Third party advertisement---

यदि आप भी रेस्टोरेंट में शौक से खाते हैं तंदूरी रोटी तो संभल जाए, इसकी सच्चाई है डराने वाली -

 


भारत में खाने पीने का शौक हर किसी को होता है। यहां के लोग बहुत चटोरे हैं। देश में आपको अलग अलग प्रकार के हजारों व्यंजन मिल जाते हैं। लेकिन इन सभी में एक चीज ऐसी है जिसे लगभग हर भारतीय अपने रोजाना के भोजन में जरूर शामिल करता है। हम यहां बात कर रहे हैं सदाबहार रोटी की। जब भी हम कोई सब्जी बनाते हैं तो उसके साथ रोटी जरूर बनती है। सामान्यतः लोग रोजाना गेहूं की तवा रोटी खाते हैं। लेकिन इस रोटी में भी कई तरह की वेराइटी आती है। जैसे बाजरे की रोटी, मिस्सी रोटी, ज्वार रोटी, मक्का रोटी, नान और तंदूरी रोटी इत्यादि।

तंदूरी रोटी (Tandoori Roti) की बात करें तो ये होटलों में सबकी फेवरेट होती है। जब भी कोई होटल में भोजन करने जाता है तो वह गरमागरम तंदूरी रोटी ही बुलवाता है। बटर में नहाई हुई ये तंदूरी रोटी हर सब्जी के साथ बड़ी स्वादिष्ट लगती है। इन तंदूरी रोटियों को तंदूर में पकाया जाता है। इनसे कोयलों की महक आती है जिसके चलते इसका स्वाद भी बड़ा टैस्टी लगता है। आप ने भी होटलों में कई बार बड़े चाव से तंदूरी रोटी खाई होगी। लेकिन क्या आप इस तंदूरी रोटी की सच्चाई जानते हैं?

जिस तंदूरी रोटी को हम सभी बड़े शौक से खाते हैं उसकी सच्चाई जानने के बाद आप सिर्फ तवा रोटी ही खान पसंद करेंगे। यह तंदूरी रोटी आपकी सेहत के लिए फायदेमंद नहीं है। बल्कि इसे खाने के बाद कई सारे नुकसान आपके शरीर को झेलने पड़ते हैं। तंदूरी रोटी के अनहेल्थी होनी की सबसे बड़ी वजह इसे बनाने का तरीका है। तंदूर रोटियां मैदा से बनाई जाती हैं। यदि हम लगातार मैदे का सेवन करते रहें तो कई बीमारियां हमे घेर लेती है। तंदूरी रोटी में 110 से 150 तक कैलोरीज होती है। इसलिए इसे जितना हो सके कम ही खाना चाहिए।

तंदूरी रोटी खाने से सेहत को बहुत से नुकसान हो सकते हैं। यहां तक कि इसे लंबे समय तक खाने से ये आपकी जान की दुश्मन भी बन सकती है। तो चलिए बिना किसी देरी के तंदूरी रोटी के नुकसान जान लेते हैं।

शुगर बढ़ाती है तंदूरी रोटी
तंदूरी रोटी को बनाने में मैदे का इस्तेमाल किया जाता है। यह मैदा आपके शरीर का शुगर लेवल बढ़ा देता है। दरअसल इस मैदे में बहुत ज्यादा ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है जिसकी वजह से डायबिटीज होने के चांस बढ़ जाते हैं। एक बार आपको डायबिटीज हो जाए तो फिर और भी का दूसरी बीमारियां आपके शरीर को घेर सकती है। इसलिए यदि आप शुगर के मरीज हैं तो तंदूरी रोटी खाना हर हाल में आवाइड करें। वहीं सेहतमंद लोग भी इसे जितना हो सके कम ही खाएं।

दिल की बीमारी बढ़ाती है तंदूरी रोटी
चुकी तंदूरी रोटी में मैदा होता है इसलिए ये आपके दिल के लिए भी सेहतमंद नहीं होती है। इसका अधिक सेवन करना आपके दिल के लिए हानिकारक हो सकता है। इसे खाने से आपको दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए दिल संबंधित बीमारी वाले मरीजों को भी तंदूरी रोटी नहीं खाना चाहिए।

यदि आप तंदूरी रोटी खाना ही चाहते हैं तो गेंहू से बनी तंदूरी रोटी का सेवन कर सकते हैं। हालांकि अधिकतर होटलों में इसे बनाने के लिए मैदे का ही इस्तेमाल होता है। 

    Punjab, Ludhiana, Jalandhar, Amritsar, Patiala, Sangrur, Gurdaspur, Pathankot, Hoshiarpur, Tarn Taran, Firozpur, Fatehgarh Sahib, Faridkot, Moga, Bathinda, Rupnagar, Kapurthala, Badnala, Ambala,Uttar Pradesh, Agra, Bareilly, Banaras, Kashi, Lucknow, Moradabad, Kanpur, Varanasi, Gorakhpur, Bihar, Muzaffarpur, East Champaran, Kanpur, Darbhanga, Samastipur, Nalanda, Patna, Muzaffarpur, Jehanabad, Patna, Nalanda, Araria, Arwal, Aurangabad, Katihar, Kishanganj, Kaimur, Khagaria, Gaya, Gopalganj, Jamui, Jehanabad, Nawada, West Champaran, Purnia, East Champaran, Buxar, Banka, Begusarai, Bhagalpur, Bhojpur, Madhubani, Madhepura, Munger, Rohtas, Lakhisarai, Vaishali, Sheohar, Sheikhpura, Samastipur, Saharsa, Saran, Sitamarhi, Siwan, Supaul,Gujarat, Ahmedabad, Vadodara, Surat, Rajkot, Vadodara, Junagadh, Anand, Jamnagar, Gir Somnath, Mehsana, Kutch, Sabarkantha, Amreli, Kheda, Rajkot, Bhavnagar, Aravalli, Dahod, Banaskantha, Gandhinagar, Bhavnagar, Jamnagar, Valsad, Bharuch , Mahisagar, Patan, Gandhinagar, Navsari, Porbandar, Narmada, Surendranagar, Chhota Udaipur, Tapi, Morbi, Botad, Dang, Rajasthan, Jaipur, Alwar, Udaipur, Kota, Jodhpur, Jaisalmer, Sikar, Jhunjhunu, Sri Ganganagar, Barmer, Hanumangarh, Ajmer, Pali, Bharatpur, Bikaner, Churu, Chittorgarh, Rajsamand, Nagaur, Bhilwara, Tonk, Dausa, Dungarpur, Jhalawar, Banswara, Pratapgarh, Sirohi, Bundi, Baran, Sawai Madhopur, Karauli, Dholpur, Jalore,Haryana, Gurugram, Faridabad, Sonipat, Hisar, Ambala, Karnal, Panipat, Rohtak, Rewari, Panchkula, Kurukshetra, Yamunanagar, Sirsa, Mahendragarh, Bhiwani, Jhajjar, Palwal, Fatehabad, Kaithal, Jind, Nuh, road accident in bihar बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, #बिहार, #मुजफ्फरपुर, #पूर्वी चंपारण, #कानपुर, #दरभंगा, #समस्तीपुर, #नालंदा, #पटना, #मुजफ्फरपुर, #जहानाबाद, #पटना, #नालंदा, #अररिया, #अरवल, #औरंगाबाद, #कटिहार, #किशनगंज, #कैमूर, #खगड़िया, #गया, #गोपालगंज, #जमुई, #जहानाबाद, #नवादा, #पश्चिम चंपारण, #पूर्णिया, #पूर्वी चंपारण, #बक्सर, #बांका, #बेगूसराय, #भागलपुर, #भोजपुर, #मधुबनी, #मधेपुरा, #मुंगेर, #रोहतास, #लखीसराय, #वैशाली, #शिवहर, #शेखपुरा, #समस्तीपुर, #सहरसा, #सारण #सीतामढ़ी, #सीवान, #सुपौल, #road accident in bihar

Post a Comment

0 Comments