//]]>
---Third party advertisement---

बिहार के किसानों को होगा डबल प्रॉफिट, मशहूर शाही लीची के बगानों में बकरी और मुर्गी पालन शुरू

 © 

मुजफ़्फरपुर: देश और विदेशों में मीठी और रसीली लीची के लिए प्रसिद्ध बिहार के लीची के बगीचों में अगर आपको मुर्गी और बकरी दिखे तो चैंकिएगा नहीं, क्योंकि अब लीची किसान अपने बगीचे में मुर्गी और बकरी पालन भी करने लगे हैं। इससे न केवल किसानों को आर्थिक लाभ होगा बल्कि लीची के पौधों को भी कीड़ों से बचाया जा सकेगा।

मुजफ्फरपुर राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र की ओर से लीची के किसानों कि आमदनी को बढ़ाने के लिए लीची के बगीचे में मुर्गी और बकरी पालन की सलाह दे रहा है। केंद्र का मानना है कि इससे लीची के बागान में छोटे-छोटे पौधे और कीड़े मकोड़े से नुकसान को रोकने के लिए कीटनाशक का छिड़काव भी अब नहीं करना पड़ सकता है। कहा जा रहा है कि लीची के बगीचे में तरह-तरह के छोटे-छोटे पौधे हमेशा निकलते रहते हैं, जो पलने वाली बकरी का चारा बन जाएंगे। उसी तरह लीची बगानों में जो कीड़े मकोड़े उत्पन्न होते हैं वे सभी मुर्गों का भोजन हो जाएगा।

बागों में मुर्गे और बकरी भी पाले जा रहे

किसानों के हित में लगातार काम करने वाला राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र के अंदर बागवानी में महंगे और साधारण किस्म के मुर्गे पालकर इसका प्रयोग भी किया जा रहा है। केंद्र के निदेशक डॉ एस डी पांडेय ने बताया, "अपने यहां लीची के किसान जो की एक फसल लीची की निकाल लेते हैं और दूसरे फसल की तैयारी में फिर उन्हें काफी समय लग जाता है। इसकों देखते हुए हम अपने किसानों की आमदनी को बढ़ाने का एक और तरीका निकाला है, जिसे मुजफ्फरपुर, मोतिहारी, समस्तीपुर सहित अन्य जिले के किसान अपना भी रहे हैं। इससे उन्हें अच्छी आमदनी भी मिलनी शुरू हो गई है।"

'मुर्गे और बकरी के बीट से लीची के पेड़ों को लाभ मिलता है'

उन्होंने बताया कि लीची के छोटे किसानों को लीची से अच्छी खासी आमदनी नहीं होती है, कभी-कभी मौसम के साथ ना देने के कारण उन्हें मायूसी भी हाथ लगती है। ऐसे में लीची किसान किसान अपने बजट के हिसाब से अपने लीची के बगीचे में बकरे पालन या मुर्गी पालन कर सकते हैं। उन्होंने कहा, "मुर्गे और बकरी के बीट से लीची के पेड़ों को भी लाभ मिलता है। अगर किसान बड़े पैमाने पर मुर्गी और बकरी का पालन करना शुरू कर दिया तो बड़े पैमाने पर इसका व्यापार भी किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि बगीचे में पालने वाले मुर्गों का चारा भी आसानी से इन बगीचों में प्राप्त हो जाएगा। पांडेय का दावा है कि कम खर्च में ऐसा कर किसान ज्यादा लाभ कमा सकेंगे।"

इस साल तक ब्रिटेन तक पहुंच गई है मशहूर शाही लीची

केंद्र के इस सलाह के बाद मुजफ्फरपुर की मशहूर लीची के किसानों के बगीचे में अब बकरी और मुर्गा पालन भी किसान आसानी से कर सकेंगे। बिहार की शाही लीची देश और विदेशों में भी चर्चित है। इस साल लीची ब्रिटेन तक पहुंच चुकी है। शाही लीची को जीआई टैग मिल चुका है। बिहार के मुजफ्फरपुर, वैशाली, समस्तीपुर, पूर्वी चंपारण, बेगूसराय सहित कई जिलों में शाही लीची के बाग हैं, लेकिन लीची का सबसे अधिक उत्पादन मुजफ्फरपुर में होता है। 

    Punjab, Ludhiana, Jalandhar, Amritsar, Patiala, Sangrur, Gurdaspur, Pathankot, Hoshiarpur, Tarn Taran, Firozpur, Fatehgarh Sahib, Faridkot, Moga, Bathinda, Rupnagar, Kapurthala, Badnala, Ambala,Uttar Pradesh, Agra, Bareilly, Banaras, Kashi, Lucknow, Moradabad, Kanpur, Varanasi, Gorakhpur, Bihar, Muzaffarpur, East Champaran, Kanpur, Darbhanga, Samastipur, Nalanda, Patna, Muzaffarpur, Jehanabad, Patna, Nalanda, Araria, Arwal, Aurangabad, Katihar, Kishanganj, Kaimur, Khagaria, Gaya, Gopalganj, Jamui, Jehanabad, Nawada, West Champaran, Purnia, East Champaran, Buxar, Banka, Begusarai, Bhagalpur, Bhojpur, Madhubani, Madhepura, Munger, Rohtas, Lakhisarai, Vaishali, Sheohar, Sheikhpura, Samastipur, Saharsa, Saran, Sitamarhi, Siwan, Supaul,Gujarat, Ahmedabad, Vadodara, Surat, Rajkot, Vadodara, Junagadh, Anand, Jamnagar, Gir Somnath, Mehsana, Kutch, Sabarkantha, Amreli, Kheda, Rajkot, Bhavnagar, Aravalli, Dahod, Banaskantha, Gandhinagar, Bhavnagar, Jamnagar, Valsad, Bharuch , Mahisagar, Patan, Gandhinagar, Navsari, Porbandar, Narmada, Surendranagar, Chhota Udaipur, Tapi, Morbi, Botad, Dang, Rajasthan, Jaipur, Alwar, Udaipur, Kota, Jodhpur, Jaisalmer, Sikar, Jhunjhunu, Sri Ganganagar, Barmer, Hanumangarh, Ajmer, Pali, Bharatpur, Bikaner, Churu, Chittorgarh, Rajsamand, Nagaur, Bhilwara, Tonk, Dausa, Dungarpur, Jhalawar, Banswara, Pratapgarh, Sirohi, Bundi, Baran, Sawai Madhopur, Karauli, Dholpur, Jalore,Haryana, Gurugram, Faridabad, Sonipat, Hisar, Ambala, Karnal, Panipat, Rohtak, Rewari, Panchkula, Kurukshetra, Yamunanagar, Sirsa, Mahendragarh, Bhiwani, Jhajjar, Palwal, Fatehabad, Kaithal, Jind, Nuh, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, Latest News #बिहार, #मुजफ्फरपुर, #पूर्वी चंपारण, #कानपुर, #दरभंगा, #समस्तीपुर, #नालंदा, #पटना, #मुजफ्फरपुर, #जहानाबाद, #पटना, #नालंदा, #अररिया, #अरवल, #औरंगाबाद, #कटिहार, #किशनगंज, #कैमूर, #खगड़िया, #गया, #गोपालगंज, #जमुई, #जहानाबाद, #नवादा, #पश्चिम चंपारण, #पूर्णिया, #पूर्वी चंपारण, #बक्सर, #बांका, #बेगूसराय, #भागलपुर, #भोजपुर, #मधुबनी, #मधेपुरा, #मुंगेर, #रोहतास, #लखीसराय, #वैशाली, #शिवहर, #शेखपुरा, #समस्तीपुर, #सहरसा, #सारण #सीतामढ़ी, #सीवान, #सुपौल, #Latest News

Post a Comment

0 Comments