//]]>
---Third party advertisement---

बिहार विधानसभा परिसर में पानी, हल्की बरसात में डूब गया पटना, नाले का पानी हुआ ओवरफ्लो, लोग परेशान

 

बिहार में का बा का जवाब गायिका मैथिली ठाकुर ने यह कह कर दिया था कि बिहार में की नहि छै, बिहार में सब किछु छै, बिहार में इहो छै बिहार में ओहो छै। अब लग रहा है कि मैथिली ने सच ही कहा था। जहां विधान सभा बरसात की पानी में डूब जाए वो सिर्फ और सिर्फ बिहार ही तो हो सकता है। जहां के डिप्टी सीएम हाफ पैंट पहनकर अपना आवास छोड़ दे वह बिहार ही तो है।
बिहार में मानसून की सक्रियता से कई जगहों पर भारी हुई है। रविवार को सबसे ज्यादा बारिश पटना में दर्ज की गई। दोपहर 11.30 बजे से 1 बजे के बीच डेढ़ घंटे में हुई 75 मिमी की भारी बारिश से पटना बेदम हो गया। जगह-जगह जलजमाव की स्थिति हो गई। गांधी मैदान, बेली रोड, विधान सभा परिसर, करगिल चौक सहित शहर के सभी प्रमुख इलाकों में जलजमाव से लोग परेशान रहे।

मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक पटना में 77.2 मिमी बारिश रिकार्ड हुई। इसके अलावा छपरा में 70 मिमी, वैशाली में 34 मिमी बारिश हुई। मौसमविदों का कहना है कि पिछले दिनों लगातार अधिकतम तापमान सामान्य से काफी ऊपर रहा था। पूर्वा हवा के साथ नमी का प्रवाह बढ़ते ही बादल जमकर बरसे। पिछले दो दिनों से मानसून की सक्रियता पूरे सूबे में बनी हुई है। भारी बारिश की स्थिति को लेकर मौसम विभाग की ओर से दो दिनों से पूर्वानुमान किया जा रहा है। गया में भी 12.5 मिमी बारिश हुई है।

उत्तर बिहार में भी कई जगहों पर भारी बारिश
मौसम विभाग के अनुसार पिछले 24 घंटे में उत्तर बिहार सहित राज्य के कई भागों में भारी बारिश हुई है। इनमें फारबिसगंज और रामनगर में 90 मिमी, दरभंगा, चनपटिया , सबौर, कटिहार, सौलीघाट में 70 मिमी, बगहा और तारापुर में 60 मिमी, कोलगांव ,पूर्णिया, झंझारपुर, समस्तीपुर में 50 मिमी बारिश हुई। 

Post a Comment

0 Comments