//]]>
---Third party advertisement---

नहीं भरे टीचर्स के खाली पद, तो आंदोलन



गोविंद बल्लभपंत महाविद्यालय की अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद रामपुर इकाई द्वारा एसडीएम रामपुर के माध्यम से प्रदेश के शिक्षा मंत्री को रामपुर कालेज की विभिन्न समस्याओं को लेकर ज्ञापन सौंपा गया। विद्यार्थी परिषद द्वारा 23 दिसंबर 2020 को भी ज्ञापन दिया गया था लेकिन प्रशासन द्वारा अभी तक विद्यार्थी परिषद की मांगों पर कोई ध्यान नहीं दिया। इकाई ने कहा कि रामपुर महाविद्यालय हिमाचल प्रदेश के नामी महाविद्यालय में से एक है जहां लगभग 5000 छात्र-छात्राएं शिक्षा ग्रहण करते हैं किंतु महाविद्यालय में अभी भी अधिकतर शिक्षक के पद खाली पड़े हैं तथा अधिकतर विषयों के अध्यापक ही नहीं हैं।

रामपुर महाविद्यालयों में अध्यापकों की कमी होने के कारण छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ हो रहा है जिस कारण छात्रों को अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद रामपुर इकाई अध्यक्ष रोनी राणा का कहना है कि यदि विद्यार्थी परिषद की मांगें जल्द से जल्द पूरी नहीं की गईं और रामपुर में जल्द अध्यापकों की नियुक्ति नहीं की गई तो अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद आने वाले समय में उग्र आंदोलन करेगा जिसकी पूरी जिम्मेदारी प्रशासन अथवा सरकार की होगी।

राणा ने कहा कि विद्यार्थी परिषद द्वारा पहले भी कई बार सरकार अथवा प्रशासन को रामपुर महाविद्यालय की समस्याओं से अवगत करा चुकी है लेकिन प्रशासन द्वारा इस समस्याओं के निवारण पर कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है। विद्यार्थी परिषद द्वारा एसडीएम रामपुर को ज्ञापन सौंपा गया जिसमें मुख्य रूप से इकाई अध्यक्ष रोनी राणा, छात्र प्रमुख मीतू सागर, इकाई मंत्री अर्चना नंदोली, इकाई उपाध्यक्ष भुवनेश्वर शर्मा, इकाई सह मंत्री पितांबर शर्मा उपस्थित रहे।


Post a comment

0 Comments