---Third party advertisement---

Shimla: ठियोग में पुलिस ने बेरहमी से पीटा कार सवार युवक, गुस्साए लोगों ने किया चक्का जाम



ठियोग में पुलिस द्वारा एक युवक की निर्मम पिटाई को लेकर मंगलवार को स्थानीय लोगों का गुस्सा जमकर फूटा और गुस्साए लोगों, स्थानीय विधायक राकेश सिंघा सहित माकपा की स्थानीय कमेटी के सदस्यों की अगुवाई में स्थानीय पुलिस थाना के समीप करीब 2 घंटे चक्का जाम किया और दोषी पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई की मांग उठाई। इस दौरान पुलिस थाना के बाहर सुबह करीब 11 बजे माकपा नेताओं के साथ मिलकर लोगों ने चक्का जाम किया और करीब आधे घंटे बाद अधिकारी लोगों को समझाने के लिए मौके पर पहुंचे तो गुस्साए लोगों ने पुलिस की इस शर्मसार हरकत को लेकर नारे लगाने शुरू कर दिए और आंदोलन यूं ही चलता रहा। इस दौरान थोड़ी देर बाद डीएसपी कुलविंदर सिंह भी मौके पर पहुंचे और प्रदर्शनकारियों को समझाने का पूर्ण प्रयास किया लेकिन वे नहीं माने।

आरोप-रात के अंधेरे में बिना तफ्तीश और एफ आईआर के पीटा युवक

इसके उपरांत स्थानीय विधायक व माकपा नेताओं के अलावा डीएसपी ठियोग स्वयं युवक को देखने अस्पताल पहुंचे और चिकित्सकों से जानकारी ली। इसके बावजूद भी करीब 2 घंटे तक धरना-प्रदर्शन चलता रहा। इस दौरान प्रदर्शनकारियों का आरोप था कि रात के अंधेरे में बिना तफ्तीश और एफ आईआर दर्ज कर युवक की निर्मम पिटाई की गई है, जिसे पहले उपचार के लिए सिविल अस्पताल ठियोग में भर्ती किया गया है, जहां से उसे आईजीएमसी शिमला रैफर किया गया है। इस दौरान प्रदर्शनकारी तब तक डटे रहे, जब तक उन्हें प्रशासन की ओर से आश्वासन नहीं मिला। इस दौरान पूरे मामले की एसडीएम ठियोग की अगुवाई में न्यायिक जांच तथा दोषी लाइन हाजिर कर सस्पैंड किए जाने के आश्वासन के बाद चक्का जाम खोला गया।
डीएसपी की गाड़ी को टक्कर लगने से शुरू हुआ विवाद

ठियोग थाना के समीप बीती रात हुए एक मामले ने मंगलवार सुबह तूल पकड़ लिया और गुस्साए लोगों ने चक्का जाम कर दिया। काबिले गौर है कि सोमवार देर रात एक युवक की गाड़ी की टक्कर ठियोग थाना के पास डीएसपी ठियोग गाड़ी से हो गई, जिसके बाद थाने से कुछ पुलिसकर्मी निकले और कार में सवार युवक को पकड़ लिया। डीएसपी ठियोग ने बताया कि युवक पूरी तरह से नशे की हालत में था और उसे संभालना मुश्किल था, जिसके चलते पुलिस ने लापरवाही से गाड़ी चलाने को लेकर युवक का सिविल अस्पताल टीम को मैडीकल कराने के बाद मामला दर्ज किया है। मंगलवार को पीड़ित युवक के परिजनों ने बताया कि पुलिस के जवानों ने युवक की बेरहमी से पिटाई की है। उसके शरीर पर कई गहरी चोटें आई हैं। इतना ही नहीं, परिवार वालों ने आरोप लगाया कि जवानों ने निर्मम पिटाई की है और युवक के पैरों को जलाया है लेकिन अस्पताल के एसएमओ डॉ. दिलीप टेक्टा ने बताया कि जलाए जाने के कोई भी निशान युवक के पैरों पर नहीं मिले हैं।
चक्का जाम के चलते एनएच पर लगी वाहनों की कतारें

इस दौरान चक्का जाम के चलते राष्ट्रीय उच्च मार्ग पांच पर दोनों ओर वाहनों की लंबी कतारें लग गईं और जिस तरह समय बीतता गया वाहनों की कतारें ठियोग-शिमला, ठियोग-रामपुर तथा ठियोग-रोहडू तीनों मार्गों पर 2-2 किलोमीटर से भी अधिक दूरी तक लग गईं और चक्का जाम खुलने के बावजूद भी देर शाम तक ठियोग में वाहन सड़कों पर रेंगते नजर आए।

Post a comment

0 Comments