//]]>
---Third party advertisement---

मंडी में कोरोना से 5 की मौत, 2 मृतकों की कोविड रिपोर्ट का इंतजार



नेरचौक मेडिकल कॉलेज में मंगलवार को 7 मरीजों की मौत हो गई। 5 कोरोना संक्रमितों की मौत कोविड वार्ड व 2 की सारी वार्ड में हुई। सारी वार्ड के दोनों मृतकों के कोविड जांच के लिए सैंपल लिए गए हैं तथा रिपोर्ट आना बाकी है। कॉलेज प्रबंधन ने सभी 7 मृतकों के शव दाह संस्कार के लिए उनके स्वजनों को सौंप दिए हैं। मृतकों में संधोल के तारडोला निवासी 58 वर्षीय व्यक्ति, बिलासपुर जिला के कोठी गांव के रहने वाले 71 वर्षीय व्यक्ति, बल्ह हलके के चंडयाल के रहने वाले 52 वर्षीय व्यक्ति, बल्ह हलके के सरोगी के 75 वर्षीय वृद्ध, मंडी शहर के टारना के 70 वर्षीय निवासी की मौत हो गई, वहीं सरकाघाट उपमंडल के कलयाना की 25 वर्षीय महिला को खांसी व बुखार की शिकायत होने पर सोमवार देर शाम मेडिकल कॉलेज के सारी वार्ड में भर्ती किया गया था, जिसकी सुबह मौत हो गई, वहीं कुल्लू जिला के बड़ागांव का 62 वर्षीय व्यक्ति देर रात सारी वार्ड में भर्ती किया गया था, उसकी भी सुबह मौत हो गई। कोविड जांच के लिए दोनों के सैंपल लिए गए हैं और रिपोर्ट आना बाकी है।

जिला में कोरोना संक्रमण के 110 नए मामले

मंगलवार को जिला में कोरोना संक्रमण के मंगलवार को 110 नए मामले आए हैं। इनमें नेरचौक मेडिकल कॉलेज का एक चिकित्सक कोरोना की चपेट में आ गया है जबकि अन्य मामले बल्ह, सुंदरनगर, सदर मंडी, पधर व मंडी शहर के आए हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी मंडी डॉ. देवेंद्र शर्मा ने पुष्टि करते हुए कहा कि नेरचौक मैडीकल कालेज में पिछले 24 घंटों के दौरान 7 मरीजों की मौत हुई है जिनमें 2 मामलों की रिपोर्ट आना बाकी है, वहीं 164 संक्रमित रिकवर हुए हैं।
नेरचौक मेडिकल कॉलेज में वैंटीलेशन की समस्या से स्वास्थ्य कर्मी परेशान

नेरचौक मैडीकल कालेज में वैंटीलेशन की समस्या से स्वास्थ्य कर्मी बेहद परेशान बताए जा रहे हैं। कई कर्मचारियों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि यहां एक के बाद एक कर्मचारियों का संक्रमित होना इसी बात की ओर संकेत कर रहा है कि यहां एक तो कोविड अस्पताल कालेज के अंदर चलाया गया है और दूसरा यहां हर वार्ड में पर्याप्त वैंटीलेशन की सुविधा नहीं है। कोरोना संक्रमण के चलते सैंट्रल एसी और हीटर तक बंद रखे गए हैं जिससे अंदर कर्मचारी सांस लेने की समस्या से जूझ रहे हैं। डॉक्टरों के कमरों में तो हीटर खूब चलते हैं लेकिन स्टाफ नर्सों को हीटर तक सेंकने को नहीं मिलते।

Post a comment

0 Comments