//]]>
---Third party advertisement---

Shimla: नाइट कफ्र्यू से 150 रूटों पर नहीं दौड़ेंगी बसें



प्रदेश के चार जिलों में नाइट कफ्र्यू लगाए जाने से परिवहन निगम और निजी ऑप्रेटरों के 150 रूट प्रभावित होंगे। प्रदेश के शिमला, कांगड़ा, मंडी, कुल्लू से दिल्ली, चंडीगढ़, उत्तराखंड के लिए नाइट बसें नहीं चलेंगी। इन जिलों से ही बाहरी राज्यों के लिए सबसे ज्यादा नाइट बसें चलती हैं। 

इसके अलावा प्रदेश के कफ्र्यू वाले चार जिलों में भी नाइट सॢवस प्रभावित रहेगी। कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते यह सब किया गया है। यह व्यवस्था 15 दिसम्बर तक लागू रहेगी। प्रदेश मंत्रिमंडल बैठक के फैसले के तहत प्रदेश व बाहरी राज्यों के लिए 50 फीसदी ऑक्यूपैंसी के साथ बसें चलेंगी। परिवहन निगम के प्रदेश और बाहरी राज्यों के करीब 2800 रूट हैं। कोरोना के चलते 1900 रूटों पर ही बसें भेजी जा रही हैं। 

ग्रामीण के 300 रूट क्लब किए हुए हैं, वहीं प्रदेश के प्राइवेट बस ऑप्रेटरों के करीब 4 नाइट रूटों पर बसें चलती हैं, जिसमें शिमला-चम्बा, रिकांगपिओ-कांगड़ा, सराहन-पठानकोट और शिमला-यंगथन रूटों पर बसें चलती हैं, जबकि 25 बसें ऐसी हैं जोकि अपने गंतव्य यानी रूटों पर 8 से 10 बजे के बीच पहुंचती हैं, ये रूट भी नाइट कफ्र्यू से प्रभावित होंगे। निजी बस ऑप्रेटर्स संघ के पदाधिकारियों ने बताया कि सरकार के इस फैसले से असमंजस भी है और बस रूट भी प्रभावित होंगे लेकिन वे सरकार के साथ हैं। वहीं निगम के अधिकारियों ने बताया कि नाइट कफ्र्यू से करीब 120 रूट प्रभावित होंगे।

Post a comment

0 Comments