बड़ी खबर-असदुद्दीन ओवैसी ने फिर किया NRC का जिक्र,हम आसानी से नही होने देंगे इसे



बिहार विधान सभा चुनाव में 5 सीट जीतने से गदगद ऐमीम नेता असदुद्दीन ओवैसी एक बार फिर नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजंस इन आर सी के मुद्दे पर वापस आ गए हैं. मुसलमानों को भड़काते हुए ओवैसी ने कहा कि देश में नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर इन पी आर तैयार करना इन आर सी बनाने की दिशा में पहला कदम होगा. यदि इन पी आर बन गया तो देश में ‘संदिग्ध नागरिकों’ की सूची भी बना ली जाएगी.

ओवैसी ने इन पी आर ,इन आर सी के खिलाफ भड़काऊ ट्वीट किया असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट करके कहा कि इन पी आर तैयार करना इन आर सी बनाने की दिशा में पहला कदम होगा. देश में इस तरह की कोई प्रक्रिया शुरू नहीं होनी चाहिए जिससे यहां के गरीब लोग संदिग्ध नागरिकों की श्रेणी में आ जाएं.ओवैसी ने सरकार को चेतावनी दी कि यदि इन पी आर बनाने का शिड्यूल फाइनल किया गया तो उसके विरोध में दोबारा से आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा.

अवैध विदेशियों की पहचान के लिए बनना है इन पी आर बता दें कि देश में अवैध रूप से घुसे बांग्लादेशियों, रोहिंग्याओं और अन्य विदेशियों की पहचान के लिए सरकार देश में इन पी आर तैयार करना चाहती है. जिसका ओवैसी और कई दूसरे मुस्लिम संगठन विरोध कर रहे हैं. उनका आरोप है कि इन पी आर के बहाने सरकार मुसलमानों को ‘संदिग्ध नागरिकों’ की नागरिकों की सूची में डालकर उनकी नागरिकता छीन लेना चाहती है.

पिछले साल सी ए ए, इन आर सी के खिलाफ सड़कों पर उतरे थे मुसलमान सरकार ने पिछले साल पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के अल्पसंख्यकों को शरण देने के लिए नागरिकता संशोधन कानून सी ए ए लागू किया तो ओवैसी समेत देश भर के मुस्लिम संगठन सड़कों पर उतर आए थे. उनका तर्क था कि सरकार ने पड़ोसी देशों के हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन और ईसाईयों को इस कानून में शामिल किया गया है लेकिन पड़ोसी देशों के बहुसंख्यक मुसलमानों को जानबूझकर छोड़ दिया गया.

सुप्रीम कोर्ट भी नहीं खुलवा पाई थी शाहीन बाग की सड़क मुस्लिम संगठनों ने इस मुद्दे पर देश भर में प्रदर्शन कर कई जगहों पर हिंसा भी की थी. इनमें शाहीन बाग की सड़क पर चला प्रदर्शन भी शामिल था, जिसे सुप्रीम कोर्ट भी खुलवा पाने में नाकाम रही थी. यूपी में सी ए ए विरोध के नाम पर दंगों को योगी सरकार ने सख्ती के कुचल दिया था. सरकार ने न केवल दंगाइयों के पोस्टर चौराहों पर सार्वजनिक रूप से चस्पा किए बल्कि उनसे बलपूर्वक संपत्ति के नुकसान की भरपाई भी की. ये लेख भी आपको पसंद आएंगे। 👇
ऐसी ही अन्य खबरों के लिए अभी हमारी वेबसाइटHimachalSe पर जाएँ

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...
loading...