बेटियों को बुधवार के दिन नहीं भेजा जाता है सुसराल, इसके पीछे की वजह जानना है बेहद जरुरी



बेटियों को बुधवार के दिन नहीं भेजा जाता है सुसराल, इसके पीछे की वजह जानना है बेहद जरुरी - हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार सप्ताह के हर दिन का अपना ही एक अलग महत्व होता है। हम हर दिन के मुताबिक अपने ईष्ट और देवी-देवताओं की पूजा करते हैं। बता दें कि बुधवार के दिन प्रथम पूज्नीय गणेश जी को माना जाता है। गणेश जी को हम विघ्रहर्ता और मंगलकारक के नाम से भी जानते हैं। अक्सर आपने देखा होगा कि जब भी घर में कोई भी शुभ काम करते हैं तो सबसे पहला निमत्रंण गणपति जी को दिया जाता है। लेकिन आपको बता दें कि इन बातों के बावजूद क्या आप जानते हैं कि बुधवार के दिन बेटियों को ससुराल में नहीं भेजा जाता है।

भारतीय संस्कृति में ऐसी मान्यता है कि बुधवार के दिन बेटियों को ससुराल नहीं भेजना चाहिए ऐसा इसलिए माना जाता है क्योंकि इसके पीछे कारण है।ज्योतिष शास्त्र में ऐसा कहा गया है कि बुधवार के दिन बेटियों को विदा करना शुभ नहीं होता है। बहुत ही अशुभ माना गया है|ऐसी मान्यता है कि बुधवार के दिन अपनी बेटियों को ससुराल के लिए विदा नहीं करना चाहिए। इस दिन बेटी को विदा करने से रास्ते में किसी प्रकार की दुर्घटना होने की संभावना रहती है। इतना ही नहीं, आपकी बेटी का अपने ससुराल से संबंध भी बिगड़ सकता है। शास्त्र में इस अपशकुन से जुड़े कारणों की भी व्याख्या है।

एक पौराणिक मान्यता के अनुसार ‘बुध’ ग्रह ‘चंद्र’ को शत्रु मानता है लेकिन ‘चंद्रमा’ के साथ ऐसा नहीं है, वह बुध को शत्रु नहीं मानता। ज्योतिष में चंद्र को यात्रा का कारक माना जाता है और बुध को आय या लाभ का। इसलिए बुधवार के दिन किसी भी तरह की यात्रा करना नुकसानदेह माना गया है। यदि बुध खराब हो तो दुर्घटना या किसी तरह की अनिष्ट घटना होने की संभावना बढ़ जाती है। ज्योतिष में चंद्र को यात्रा का कारक माना जाता है और बुध को आय या बिजनेस का कारक माना जाता है।

इसीलिए बुधवार के दिन किसी भी तरह की व्यावसायिक यात्रा पर हानि व अन्य किसी तरह की यात्रा करने पर नुकसान होता है। यदि बुध खराब हो तो दुर्घटना या किसी तरह की अनिष्ट घटना होने की संभावना बढ़ जाती है। इसीलिए ऐसी मान्यता है कि बुधवार के दिन बेटियों को सुसराल नहीं भेजा जाना चाहिए। बुधवार को कुछ और काम ऐसे हैं जो अगर किए जाऐं तो उन कार्यों को करने से व्यक्ति की बुद्धि घटती है। व्यक्ति के शत्रु बढते हैं, ससुराल से संबंध खराब होते हैं, पराक्रम में कमी आती है। चलिए हम आपको बताते हैं इन समस्याओं से बचने के लिए बुधवार के दिन और कौन-कौन से काम नहीं करने चाहिए.

बुधवार के दिन पान नहीं खाना चाहिए।
दूध को जलाने का काम जैसे गजरेला, खीर, रबड़ी आदि बनाने का काम नहीं करना चाहिए।
कन्या का अपमान नहीं करना चाहिए। छोटी कन्या मिल जाए तो उसे उपहार स्वरूप कुछ भेंट या कुछ पैसे भी दे सकते हैं।
बुधवार के दिन किन्नर का मजाक न करें। अगर किन्नर मिल जाऐं तो उन्हें भेंट स्वरूप कुछ पैसे अथवा उपहार दें।
बुधवार के दिन टूथ पेस्ट, टूथ ब्रश और कोई भी बालों से संबंधित चीजों का क्रय-विक्रय न करें।
बुधवार के दिन पुरूषों को ससुराल नहीं जाना चाहिए।
बुधवार के दिन साली, बुआ, विवाहित बहन और बेटी को घर पर निमंत्रण न दें।
ऐसी ही अन्य खबरों के लिए अभी हमारी वेबसाइटHimachalSe पर जाएँ

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...
loading...