70 बरस बंद रहा ये दरवाजा, खोलते ही खुला घरवालों की किस्मत का ताला

70 बरस बंद रहा ये दरवाजा, खोलते ही खुला घरवालों की किस्मत का ताला - ऐसा आपके साथ भी जरूर हुआ होगा जब कभी आप किसी खाली या सुनसान बंद पड़े घर को देख एकदम से डर गए हो। ऐसा देखा जाता है कि लोग किसी भी सुनसान पड़े घरों में जाने से घबराते हैं, मगर आपको बता दे की ऐसे ही एक करीब पिछले 70 सालों से बंद पड़े फ्लैट ने तो एक शख्स की किस्मत ही बदल दी। शायद इस बात पर आपको यकीन ना हो मगर ये सच है कि पिछले 70 सालों से बंद पड़े इस फ्लैट के खुलते ही इस इंसान की किस्मत ऐसी बदली की वो एक झटके में करोड़पति बन गया।

बताना चाहेंगे कि सन 1939 में जब नाजियों ने पेरिस पर हमला किया था उस वक़्त वहां के सभी स्थानीय नागरिक घर छोड़कर भाग गए थे। जिसके बाद अधिकतर लोग शहर से बाहर ही बस गए और फिर कभी लौट कर नहीं आए। दूसरे विश्व युद्ध के बाद इन घरों के बारे में तो तकरीबन सभी ने अपनी यादें तक भुला दी की यहाँ कभी उनका घर भी हुआ करता था। मगर इसी बीच एक परिवार कई सालों के बाद जब वापस पेरिस लौटा और जब घर का दरवाजा खुला तो सभी की आंखें खुली की खुली रह गईं।

बता दे की पेरिस में रहने वाली मैडम डी फ्लोरियन जब मात्र 23 वर्ष की थी तभी उनके परिवार ने नाजियों के डर से घर छोड़ दिया था और अपनी जान बचाने के लिए कहीं सुदूर चली गयी जहां वो सभी महफ़ूज रह सकें जिसके बाद उनका वापिस लौटने का कोई इरादा नहीं था। बताया जाता है की 2010 में उनकी मौत के बाद जब उनके परिवार को पता चला कि पिछले 70 सालों से फ्लोरियन, पेरिस में मौजूद अपने घर का लगातार किराया भर रही थी तो उत्सुकता में परिवारवालों ने वहां जाने का फैसला किया यह सोचते हुए की वहां फ्लोरियन से जुड़ी कुछ पुरानी यादें होंगी जिसे वो अपने साथ ले आएंगे।

मगर पेरिस पहुंचने के बाद जब परिवार ने कई दशक से बंद पड़े घर के दरवाजे को जैसे ही खोला, अंदर का दृश्य देख सभी की आँखें खुली ही रह गयी। बता दे घर के अंदर बेशकीमती चीजें, दुर्लभ पेंटिंग्स और कीमती सामान भरे थे जिनकी कीमत शायद लाखों-करोड़ों में थी। घरवालों ने उन सामानों की नीलामी कर दी और देखते-देखते करोड़पति बन गए। फ्लोरियन का मेकअप किट विंटेज बन चुका था साथ ही उनके घर में लगी एक पेंटिंग बेहद ही दुर्लभ थी जिसे 21 करोड़ से भी ज्यादा में बेचा गया।
ऐसी ही अन्य खबरों के लिए अभी हमारी वेबसाइटHimachalSe पर जाएँ

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...
loading...