//]]>
---Third party advertisement---

Kangra: पालमपुर को मिला नगर निगम का दर्जा









पालमपुर को आखिरकार नगर निगम का दर्जा प्राप्त हुआ है। प्रदेश कैबिनेट में इस संबंध में निर्णय लिए जाने के बाद ब्रिटिश काल में अस्तित्व में आए पालमपुर नगर निकाय का दायरा 116 वर्ष बाद बढ़ेगा। लगभग दो दशक से नगर निगम के गठन की मांग उठ रही थी। पालमपुर को नगर निगम बनाने से पूर्व 24 सितम्बर को नगर परिषद के विस्तारीकरण का निर्णय लिया गया था ताकि नगर निगम के निर्धारित मानदंडों का पूरा किया जा सके। उक्त अधिसूचना में 10 पटवार वृत्तों के अंतर्गत आने वाली 14 पंचायतों के 40 मोहाल को शामिल किया गया था। नगर परिषद के विस्तारीकरण के अंतर्गत पटवार वृत्तों के अंतर्गत आने वाले 32504 खसरा नंबर शामिल किए गए तथा कुल प्रस्तावित एरिया 3433-94-99 हैक्टेयर शामिल किया गया था। माना जा रहा है कि नगर निगम के आखिरी प्रारूप में आंशिक परिवर्तन के साथ इसी खाके को अंतिम रूप दिया जा सकता है।


उपमंडल स्तर पर पहला नगर निगम
पालमपुर प्रदेश का पहला ऐसा नगर निगम होगा जो उपमंडल स्तर पर गठित होगा। प्रदेश में राजधानी शिमला व कांगड़ा जनपद मुख्यालय धर्मशाला में नगर निगम गठित हैं। पालमपुर के साथ जिन दो और नगर परिषदों मंडी व सोलन को नगर निगम बनाने का निर्णय लिया गया है वे दोनों भी जनपद मुख्यालय हैं। कांगड़ा जनपद प्रदेश का एकमात्र जनपद होगा जहां अब दो नगर निगम हो जाएंगे।

इस प्रकार रहेगा खाका
नगर परिषद में बंदला, चौकी, बिंद्रावन, आईमा, चंदपुर, पालमपुर, बाग बूहला, टांडा व बनूरी पटवार वृत्त शामिल किए गए हैं। प्रस्तावित मोहाल में बंदला पटवार वृत्त के अंतर्गत बंदला खास, भटारका, चौकी पटवार वृत्त के अंतर्गत घुग्घर, चौकी, खलेट व रोडी, बिंद्रावन पटवार वृत्त के अंतर्गत भडूं, बिंद्रावन, डिफरपट्ट, खिलड़ू, चिम्बलहर, कल्याड़कर व लोहारल, आईमा पटवार वृत्त के अंतर्गत आईमा, सुग्घर, बंदला टी एस्टेट व लोहना, चंदपुर पटवार वृत्त के अंतर्गत होल्टा व भरमात उपरली, पालमपुर पटवार वृत्त के अंतर्गत निहंग व टांडा, बाग बूहला पटवार वृत्त के अंतर्गत वनघियार, बाग उपरला व मारंडा, पटवार वृत्त टांडा के अंतर्गत पंतेहड़, टांडा होल्टा, जंडेरा, सरालू, राजपुर, टांडा पारला व गोरट, पटवार वृत्त बनूरी के अंतर्गत बनूरी, बनूरी खास, जलरेहड़ व मतेहड़ शामिल हैं।

ये पंचायतें होंगी शामिल
जिन पंचायतों को नगर परिषद में शामिल करने का निर्णय लिया गया है उनमें आईमा, लोहना, बंदला, घुग्घर, चौकी, खलेट, बिंद्रावन, कल्याडकर, होल्टा, वन्घ्यार, टांडा, राजपुर, मोहाल बनूरी, बनूरी खास शामिल हैं। वर्ष 2011 की जनगणना के अुनसार इन पंचायतों की जनसंख्या राजपुर (2203), मोहाल होल्टा (5334), बनूरी खास (2520), मोहाल बनूरी (1138), टांडा (3310), बनघियार (2420), आईमा (4789), चौकी (1266), ङ्क्षबद्रावन (3099), लोहना(2353), घुग्घर (5514), कल्याडकर (1313), खलेट (2646) और बंदला(3095) है। यद्यपि इन पंचायतों के कुछेक भाग को प्रस्तावित नगर निगम से बाहर रखे जाने की संभावना है।

प्रदेश भाजपा प्रवक्ता उमेश दत्त का कहना है कि पालमपुर को नगर निगम बनाए जाने के सरकार के निर्णय का भाजपा स्वागत करती है। सरकार का यह निर्णय समय की मांग थी।

विधायक आशीष बुटेल का कहना है कि अभी अधिसूचना पढ़ी नहीं है। यदि ग्रामीण क्षेत्रों को इसमें शामिल किया गया है तो उन्हें सरकार बाहर करे तथा शहरी क्षेत्रों को ही नगर निगम में शामिल किया जाना तर्कसंगत होगा।

पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार का कहना है कि पालमपुर को नगर निगम बनाने का महत्वपूर्ण निर्णय लिए जाने के लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को बधाई एवं धन्यवाद। पालमपुर की जनता को भी विशेष बधाई। निरंतर बढ़ रहे पालमपुर नगर के महत्व को देखते हुए यह निर्णय महत्वपूर्ण है। जहां दो विश्वविद्यालय, केंद्र सरकार का बड़ा संस्थान, उत्तर भारत का एक बड़ा आंखों का अस्पताल हों, उस नगर के विकास और रखरखाव के लिए नगर निगम अत्यधिक आवश्यक था। ग्रामीण क्षेत्रों के लोग आश्वस्त रहें कि इस निर्णय से उन्हें किसी प्रकार की कोई कठिनाई नहीं होगी।

Post a comment

0 Comments