---Third party advertisement---

Himachal: बढ़ती बेरोजगारी दर में टॉप-7 में पहुंचा हिमाचल


बढ़ती बेरोजगारी दर में हिमाचल प्रदेश टॉप-7 पर पहुंच गया है। राष्ट्रीय स्तर पर सरकारी एजैंसी के माध्यम से करवाए गए सर्वेक्षण के अनुसार मौजूदा समय में राज्य की बेरोजगारी दर 12 फीसदी आंकी गई है। देश में सबसे अधिक 19 फीसदी बेरोजगारी दर इस समय हरियाणा में आंकी गई है। इसके बाद त्रिपुरा में 17.4 फीसदी, जम्मू-कश्मीर में 16.2 फीसदी, गोवा में 15.4 फीसदी, राजस्थान में 15.2 फीसदी, दिल्ली में 12.5 फीसदी तथा हिमाचल प्रदेश में बेरोजगारी दर 12 फीसदी है। सर्वेक्षण के अनुसार वर्ष 2007 में हिमाचल प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्र में बेरोजगारी दर 4.7 फीसदी और शहरी क्षेत्र में 9.1 फीसदी थी।


राज्य में 849371 पंजीकृत बेरोजगार

इसके अलावा राज्य में पंजीकृत बेरोजगारों की बात की जाए तो सरकारी आंकड़ों के अनुसार यह संख्या 849371 है, साथ ही प्रदेश में एक वर्ष के भीतर 196104 नए बेरोजगार युवाओं के नाम सूची में दर्ज हुए हैं। इसमें सबसे अधिक बेरोजगार युवा 47698 कांगड़ा जिला से जुड़े हैं जबकि दूसरे स्थान पर मंडी जिला के 36394 बेरोजगार युवाओं ने अपने नाम दर्ज करवाए हैं। सबसे कम 683 बेरोजगार युवा जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति से जुड़े हैं। कोरोना काल की बात करें, तो प्रदेश में 16004 लोगों को बेरोजगार होना पड़ा। इस तरह बेरोजगार होने वालों में 15767 बोनाफाइड हिमाचली हैं। 


कोरोना काल में 657 लोगों ने की आत्महत्या

कोरोना काल में राज्य में 1 जनवरी से 30 सितम्बर तक आत्महत्या के 657 मामले सामने आए हैं। इसमें 424 पुरुष और 233 महिलाएं शामिल हैं। जनवरी माह में ऐसे मामलों की संख्या 40 थी जबकि अगस्त और सितम्बर माह में यह संख्या बढ़कर 191 तक पहुंच गई है। आत्महत्या करने वालों में 18 से 55 साल आयु वर्ग की संख्या अधिक है। इसमें आत्महत्या का एक कारण बढ़ती बेरोजगारी और मानसिक तनाव भी एक रहा है।

Post a comment

0 Comments