---Third party advertisement---

डेढ़ साल के बच्चे को बरामदे से उठा ले गया तेंदुआ, खेतों में शव छोड़ भागा आदमखोर

 

डेढ़ साल के बच्चे को बरामदे से उठा ले गया तेंदुआ, खेतों में शव छोड़ भागा आदमखोर

शिमला के नेरवा में तेंदुए ने एक डेढ़ साल के मासूम बच्चे को मार डाला। बताया जा रहा है कि नेरवा के तहत आने वाली ग्राम पंचायत रुसलाह के शेइला गाव में एक तेंदुआ डेढ़ वर्षीय मासूम को घर के बरामदे से उठा ले गया। जानकारी के अनुसार शेइला में दिहाड़ी मजदूरी करने वाला नेपाली मूल का दिनेश बहादुर अपने चार बच्चों के साथ कमरे में बैठा था।

इस दौरान उसकी पत्नी रसोईघर में खाना बना रही थी। इसी बीच दिनेश का सबसे छोटा डेढ़ साल का बच्चा खेलते-खेलते कमरे से बाहर निकल गया। भाग्य की बिडंबना देखिए कि इसी दौरान बिजली भी चली गई। ऐसे में अंधेरा होते ही घर के पास घात लगाए बैठे तेंदुए ने बच्चे पर हमला बोल दिया और उसे उठा कर समीप के खेत में भाग गया। परिजनों के शोर मचाने पर गांववासी इकट्ठा हुए और तुरंत खेत की तरफ दौड़े। लोगों का शोर सुनकर तेंदुआ बच्चे को लहूलुहान हालत में छोड़कर झाडि़यों की तरफ भाग गया। परिजनों ने गांववासियों की मदद से बच्चे को नेरवा अस्पताल पहुंचाया, जहां पर चिकित्स्कों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

रविवार को नेरवा अस्पताल में शव का पोस्टमार्टम कर इसे परिजनों के हवाले कर दिया गया। बता दें कि रुसलाह ग्राम पंचायत के आधा दर्जन गांवों  से लेकर देवल पंचायत के मटलाना गांव के लोग इस तेंदुए के कारण दहशत में जी रहे हैं। कुछ समय पहले मटलाना निवासी देवराज शर्मा इस मामले में सीएम हेल्पलाइन पर भी शिकायत कर चुके हैं, परंतु विभाग ने अभी तक इस मामले में कोई भी कार्रवाई नहीं की है, जिसका खामियाजा मासूम की मौत के रूप में भुगतना पड़ा है।

Post a comment

0 Comments