बोली तौसिफ की अम्मी - "इस्लाम कुबूल कर बन जाती मेरे बेटे की गुलाम तो जिन्दा रहती"




बोली तौसिफ की अम्मी - "इस्लाम कुबूल कर बन जाती मेरे बेटे की गुलाम तो जिन्दा रहती" - वैसे तो इस देश में जाट राजनीती करने वाले बहुत से नेता है,जो जाटों के नाम पर राजनीती की दूकान चलाते है, पर एक जाट लड़की को सड़क पर सरेआम मौत के घाट उतार दिया गया पर इस जाट लड़की को न्याय दिलवाने के लिए कोई कथित जाट नेता सामने नहीं आया


हरियाणा के फरीदाबाद में दिन दहाड़े एक हिन्दू लड़की जो जाट जाति से थी उसे मौत के घाट उतार दिया गया, यहाँ हम लड़की की जाति की बात इसलिए कर रहे है क्यूंकि इस देश में जाटों की राजनीती करने वाले कई सारे नेता है और लोगो को ये समझना होगा की वो तमाम नेता निकिता तोमर के मामले पर गायब है, कोई इस जाट बेटी को न्याय दिलवाने नहीं आया


निकिता तोमर को तौसिफ नाम के मुसलमान ने मौत के घाट उतार दिया, वो लगातार निकिता को मुसलमान बनने और उस से निकाह कर उसकी सेक्स स्लेव बनने को कहता था, वो निकिता को मुसलमान बनाकर अपना सेक्स स्लेव ही बनाना चाहता था, निकिता एक बहादुर लड़की थी, वो इस उन्मादी से कभी नहीं डरी, उसने जान दे दी पर उसने घुटने नहीं टेके



तौसिफ अब गिरफ्तार हो चूका है पर उसकी अम्मी अब जहर उगल रही है, तौसिफ की अम्मी जो लगातार निकिता को फ़ोन कर कहा करती थी की - "तेरा तो किडनैप भी हो चूका है, कौन करेगा तुझसे शादी, तू मुसलमान बन जा और हमारे मजहब में आ जा", तौसिफ की अम्मी अब हत्या के लिए निकिता पर ही ठीकरा फोड़ रही है


तौसिफ की अम्मी ने अब कहा है की - "इस्लाम कुबूल कर मेरे बेटे की हो जाती तो जिन्दा रहती, उसे मारना न पड़ता"



यानि हत्या के लिए जिम्मेदार निकिता ही है जो मुसलमान नहीं बन रही थी और उसके बेटे तौसिफ की गुलामी से इंकार कर रही थी, तौसिफ की अम्मी ये भी सन्देश दे रही है की - जिन्दा रहना है तो हमारा गुलाम बन जाओ, वरना मरो, वो साफ़ कर रही है की - अगर निकिता मुसलमान बनकर मेरे बेटे की गुलाम बन जाती तो जिन्दा रहती, उसे मारना नहीं पड़ता


तौसिफ को गिरफ्तार किया जा चूका है पर उसकी अम्मी अभी भी आजाद है और ये इस देश और कानून दोनों के लिए बेहद शर्म की बात है
ऐसी ही अन्य खबरों के लिए अभी हमारी वेबसाइटHimachalSe पर जाएँ

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...
loading...