//]]>
---Third party advertisement---

नाकामयाबी ही कामयाबी की वजह हो सकती है! जानिये कैसे!

नाकामयाबी ही कामयाबी की वजह हो सकती है! जानिये कैसे!

कामयाबी की वजहें !

कामयाबी और नाकामयाबी एक ही सिक्के के दो पहलू है.

अगर आप डर जाये और सोचते रहे कि आप सफल होंगे कि नहीं, तो आप नाकाम ही होंगे. इसका मतलब ये है कि नाकामयाबी सिर्फ सोचने से मिलती है.

लेकिन कामयाब होने के लिए बार बार प्रयास करना पड़ता है, हर परिस्थिति को स्वीकार करना पड़ता है, बिना हारे चलते रहना पड़ता है, और कड़ी मेहनत करनी पड़ती है.

वैसे अगर देखा जाए तो नाकामयाबी ही कामयाबी की वजह हो सकती है.

ये देखा गया है कि कामयाब इंसान नाकामी को ही अपनी कामयाबी की वजह बताते है.

आइये जानते हैं कामयाबी की वजहें –

1 – विपरीत परिस्थितियां

जब परिस्थितियां विपरीत होती है तब घबराकर लोग उससे भागने लगते हैं और असफल होने लगते है. जब विपरीत परिस्थितियों को स्वीकार करके लड़ते हुए आगे बढ़ते है, तब कामयाबी की तरफ आगे बढ़ते है.

2 – आवश्कताओं की आपूर्ति

जो अपनी आवश्यकता को जानते हुए भी उसकी पूर्ति को अनदेखा करते है, तब नाकामयाबी मिलती है. लेकिन जो अपनी आवश्यकता को पूरा करने के लिए मेहनत करके आवश्यकता से ज्यादा साधन जुटाने की कोशिश करते है तब कामयाबी की ओर जाने लगते है.

3 – जीवन की चुनौतियाँ

जो इंसान जीवन की चुनौतियों को स्वीकार करते हुए आगे बढ़ता है और चुनौतियों को हराना सीख जाता है, वो कामयाब हो जाता है. जो इन चुनौतियों से भागते हुए बहाने करता है और हारकर बैठ जाता है,वो नाकामयाब हो जाता है.

4 – सामाजिक तिरस्कार

जो सामाजिक तिरस्कार को सह लेता है, वह असफल हो जाता है. लेकिन जो सामाजिक तिरस्कार को अस्वीकार करते हुए मेहनत कर मंजिल की तरफ आगे बढ़ता है वह कामयाब हो जाता है.

5 – संघर्षमय जीवन

संघर्षमय जीवन में जो संघर्ष करने से पीछे हट जाता है, वह नाकामयाब हो जाता है. लेकिन जो संघर्ष करते हुए बिना डरे सघर्ष का सामना करते हुए हर संघर्ष को स्वीकार कर पार कर जाता है वह कामयाबी को पा लेता है.

ये थी कामयाबी की वजहें – रास्ते एक, समय एक, चीजे एक – लेकिन जो इन सब को मुकाबला करते हुए आगे बढ़ जाता है वह कामयाब हो जाता है और जो इन सब से हारकर ठहर जाता है वह नाकामयाब बन जाता है.

Post a Comment

0 Comments