//]]>
---Third party advertisement---

भूलकर भी इस जगह न रखें झाड़ू नहीं तो उठाना पड़ सकता है भरी नुक्सान




भूलकर भी इस जगह न रखें झाड़ू नहीं तो उठाना पड़ सकता है भरी नुक्सान  - हिन्दू शास्त्रों के अनुसार जिस घर में स्वच्छता होती है वहाँ माँ लक्ष्मी निवास करती हैं। यही कारण है कि दिवाली व अन्य त्योहारों पर हम अपने घरों की विशेष साफ़-सफाई करते हैं जिससे घर में माँ लक्ष्मी का आगमन हो। वास्तुशास्त्र के मुताबिक सफाई के लिए इस्तेमाल की जाने वाली झाड़ू भी माँ लक्ष्मी का ही प्रतीक है। माना जाता है कि यदि झाड़ू का रख-रखाव ठीक से ना हो तो इसका हमारे आर्थिक जीवन पर बुरा प्रभाव होता है। वास्तुशास्त्र में झाड़ू से जुड़े कुछ नियम बताए गए हैं जिनका पालन करने से जीवन की कई तरह की परेशानियाँ समाप्त हो जाती हैं। वास्तुशास्त्र के मुताबिक इन नियमों का पालन करने से घर में माँ लक्ष्मी का वास होता है और जीवन में सुख-समृद्धि बनी रहती है।

वास्तु शास्त्र के अनुसार शाम को झाड़ू लगाना अशुभ माना गया है। वास्तुशास्त्र में बताया गया है कि कभी भी सूर्यास्त के बाद झाड़ू नहीं लगानी चाहिए। माना जाता है कि सूरज ढलने के बाद झाड़ू लगाने से माँ लक्ष्मी रुष्ट हो जाती हैं और घर में दरिद्रता आती है।

वास्तुशास्त्र के अनुसार अगर नई झाड़ू खरीदनी हो तो शनिवार के दिन खरीदनी चाहिए। शनिवार के दिन झाड़ू खरीदना शुभ माना जाता है। इससे माँ लक्ष्मी के साथ- साथ शनिदेव भी प्रसन्न होते हैं।

वास्तुशास्त्र के अनुसार कभी भी रसोईघर या स्वछता वाली जगहों पर झाड़ू नहीं रखनी चाहिए। ऐसा करने से घर में दरिद्रता और बीमारियों का वास होता है। रसोई में झाड़ू रखने से घर के सदस्यों के स्वास्थ्य पर भी बुरा असर पड़ता है इसलिए हमेशा झाड़ू को रसोई से दूर ही रखना चाहिए।

शास्त्रों में झाड़ू को माँ लक्ष्मी का स्वरुप बताया गया है। वास्तुशास्त्र के अनुसार घर में झाड़ू को हमेशा छिपाकर रखना चाहिए। झाड़ू को खुले स्थान या ऐसी जगह पर नहीं रखना चाहिए जहाँ सबकी नज़र पड़े। माना जाता है कि खुले में झाड़ू रखने से धन हानि होती है।

वास्तुशास्त्र के मुताबिक झाड़ू को कभी भी खड़ा करके नहीं रखना चाहिए। यह अपशकुन माना जाता है और इससे घर में लक्ष्मी का वास नहीं रहता। वास्तुशास्त्र के नियमों के मुताबिक झाड़ू को हमेशा जमीन पर लेता कर रखना चाहिए।

वास्तुशास्त्र के नियमों के मुताबिक झाड़ू हमेशा दक्षिण या दक्षिण-पश्चिम दिशा में रखनी चाहिए। माना जाता है कि इस दिशा में झाड़ू रखने से घर में नेगेटिव एनर्जी नहीं फैलती।

वास्तुशास्त्र में कहा गया है कि झाड़ू को कभी भी उत्तर-पूर्व दिशा में नहीं रखना चाहिए। माना जाता है कि इस दिशा में झाड़ू रखने से घर में देवताओं का आगमन नहीं होता।

वास्तुशास्त्र के अनुसार कभी गलती से भी झाड़ू को पैर नहीं लगाना चाहिए। इससे माँ लक्ष्मी रुष्ट हो जाती हैं और कई आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। झाड़ू का अनादर माँ लक्ष्मी का अनादर माना जाता है। अगर कभी गलती से झाड़ू पर पैर लग जाए तो प्रणाम कर लें।

वास्तुशास्त्र के मुताबिक यदि घर का कोई सदस्य किसी काम के लिए घर से बहार निकला हो तो उसके जाने के तुरंत बाद झाड़ू नहीं लगनी चाहिए। माना जाता है कि किसी के घर से तुरंत जाने के बाद झाड़ू लगाने से अपशकुन होता है।

वास्तुशास्त्र के अनुसार कभी भी टूटी हुई झाड़ू इस्तेमाल नहीं करनी चाहिए। यदि झाड़ू टूट जाए या खराब हो जाए तो उसे तुरंत बदल देना चाहिए। खराब या टूटी हुई झाड़ू से घर की सफाई करने से परिवार में हानि होती है और आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

ऐसी ही अन्य खबरों के लिए अभी हमारी वेबसाइटHimachalSe पर जाएँ

Post a Comment

0 Comments