---Third party advertisement---

अमेरिका के 3 वैज्ञानिकों रोजर पेनरोज, रीनहार्ड गेंजेल और आंद्रिया गेज को भौतिकी का नोबेल पुरस्कार मिलेगा, ब्लैक होल और मिल्की वे के रहस्यों को समझाया

अमेरिका के 3 वैज्ञानिकों रोजर पेनरोज, रीनहार्ड गेंजेल और आंद्रिया गेज को भौतिकी का नोबेल पुरस्कार मिलेगा, ब्लैक होल और मिल्की वे के रहस्यों को समझाया

2020 के नोबेल पुरस्कार विजेता रोजर पेनरोज(दाएं), रीनहार्ड गेंजेल (बीच में) और एंड्रिया गेज (बाएं)।

रोजर पेनरोज को अल्बर्ट आइंस्टीन की रिलेटिविटी थ्योरी के बारे में पता करने के लिए मैथेमेटिकल मेथड तैयार करने के लिए नोबल दिया जाएगा
गेंजेल और गेज को संयुक्त रूप से ब्लैक होल के बारे में नई खोज करने के लिए नोबेल दिया जाएगा
2020 के लिए भौतिकी का नोबेल पुरस्कार रोजर पेनरोज, रीनहार्ड गेंजेल और एंड्रिया गेज को दिया जाएगा। रोजर पेनरोज को अल्बर्ट आइंस्टीन के जनरल थ्योरी ऑफ रिलेटिविटी के बारे में पता करने के लिए मैथेमेटिकल मेथड तैयार करने के लिए यह पुरस्कार दिया जाएगा है। वहीं, गेंजेल और गेज को संयुक्त रूप से ब्लैक होल और मिल्की वे के रहस्यों को समझाने के लिए नोबेल दिया जाएगा।

1901 से लेकर अब तक 113 बार 212 लोगों फिजिक्स में नोबेल पुरस्कार दिया गया है। जॉन बार्डीन को दो बार यह पुरस्कार मिल चुका है। उन्हें एक बार ट्रांजिस्टर और दूसरी बार सुपर कंडक्टिविटी से जुड़े कामों के लिए यह पुरस्कार दिया गया है।

एक नोबेल ज्यादा से ज्यादा तीन लोगों को दिया जा सकता है

एक नोबेल पुरस्कार ज्यादा से ज्यादा तीन विद्वानों को उनके दो अलग-अलग कामों के लिए दिया जा सकता है। पहले वर्ल्ड वार और दूसरे वर्ल्ड वार की वजह से 6 बार फिजिक्स का नोबेल पुरस्कार किसी को भी नहीं दिया गया।

क्या है मिल्की वे

ब्रह्मांड में कई गैलेक्सी (आकाशगंगा) हैं। जिस गैलेक्सी में हम यानी हमारा सौर मंडल आता है, उसे मिल्की वे कहते हैं। आकाश में यह दूधिया पट्टी की तरह दिखाई देती है, इसलिए इसे मिल्की वे नाम दिया गया है। मिल्की वे गोलाकार रूप में है, इसका व्यास 2 लाख प्रकाश वर्ष (लाइट द्वारा एक साल में चली गई दूरी) है। मिल्की वे में 400 अरब तारे हैं।

Post a comment

0 Comments