//]]>
---Third party advertisement---

चुनाव से ठीक पहले बिहार में हिंसा, पुलिसवालों पर जमकर फायरिंग, 1 की मौत, 17 घायल



पटना: बिहार में विधानसभा चुनाव होने हैं। उससे पहले मुंगेर में हालात बिगड़ गए। दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान यहां जमकर बवाल हुआ। पुलिस और स्थानीय लोगों के बीच भी झड़प हो गयी। हिंसा इतनी बढ़ गयी कि विसर्जन में फायरिंग तक की गयी, जिसमे कई लोग घायल हुए, वहीं एक की मौत हो गयी। बताया जा रहा है कि 17 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। मामले में 100 लोगों को हिरासत में ले लिया गया।

दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान बवाल:
दरअसल, बिहार में चुनाव के मद्देनजर पूजा समीतियों को निर्देश दिए गए थे कि वे 26 अक्टूबर की शाम तक विसर्जन कर लें। हालाँकि मुंगेर जिले में विसर्जन के लिए जब पुलिस ने लोगों से कहा था स्थानीय लोगों से कहासुनी हो गयी। पंडित दीन दयाल चौक के पास शंकरपुर की प्रतिमा को विसर्जन को लेकर पुलिस लोगों को समझा रही थी कि तभी गोली चलने की आवाज सुनाई दी।

पुलिस और स्थानीय लोगों में झड़प, हुई फायरिंग, एक की मौत
फायरिंग में एक 18 साल के युवक अनुराग की मौके पर मौत हो गयी, वहीं अन्य पांच लोग घायल हो गए। तत्काल उन्हें इलाज के लिए मुंगेर के सदर अस्पताल में भर्ती करवाया गया। इसके बाद स्थानीय लोगों ने जमकर उत्पात मचाया और पुलिस से भिड़ गए। लोगों का आरोप है कि पुलिस की फायरिंग में युवक की मौत हुई।

हालाँकि पुलिस का कहना है कि कुछ लोगों ने जानबूझ कर पत्थराव और फायरिंग की। घटना के बाद दीन दयाल चौक और आसपास के इलाके को पुलिस छावनी में बदल दिया गया है।

17 पुलिसकर्मी घायल
मामले में मुंगेर के डीएम राजेश मीणा ने बताया कि कुछ शरारती तत्वों ने माहौल बिगाड़ने के लिए जानबूझ कर बवाल किया और फायरिंग कर दी। जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई। वहीं भीड़ के हमले में संग्रामपुर थानाध्यक्ष सर्वजीत कुमार, कोतवाली थानाध्यक्ष संतोष कुमार सिंह, कासिम बाजार थानाध्यक्ष शैलेश कुमार समेत 17 पुलिसकर्मी घायल हो गए।

एसपी लिपि सिंह ने कहा कि इस घटना में कई पुलिसकर्मियों की हालत गंभीर है। फायरिंग भीड़ की तरफ से हुई है। 12 राउंड की फायरिंग की गई पूरे शहर में फ्लैग मार्च निकाला जा रहा है। 100 से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया और सभी लोगों से पूछताछ की जा रही है।
ऐसी ही अन्य खबरों के लिए अभी हमारी वेबसाइटHimachalSe पर जाएँ

Post a Comment

0 Comments