इन सब्जियों का सेवन करने से नहीं होता है कोरोना

इन सब्जियों का सेवन करने से नहीं होता है कोरोना

दुनिया में कोरोना महामारी से हाहाकार मचा हुआ है। कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है और इससे होनी वाली मौतों का आंकड़ा भी बढ़ रहा है। पूरी दुनिया के वैज्ञानिक वैक्सीन बनाने में जुटे हुए हैं लेकिन जब तक कोई सटीक दवा या वैक्सीन नहीं बन जाती तब तक हमें कोरोना से बचाव के लिए बेहद अलर्ट रहना होगा। हमें अपनी जीवनशैली और खान-पान पर विशेष ध्यान रखना होगा। एक ताजा रिसर्च में विश्व स्वास्थ्य संगठन के पूर्व वैज्ञानिक डॉ. जियन बूस्क्वैट ने दावा किया है कि खाने में सब्जी की मात्रा कोरोना संक्रमण से मौत की दर को कम कर सकती है। आइए जानते हैं डॉ. जियन बूस्क्वैट ने किन सब्जियों के बारे में बताया है..

डॉ. जियन बूस्क्वैट विश्व स्वास्थ्य संगठन(WHO)के ग्लोबल एलायंस अंगेस्ट क्रॉनिक रेस्पिरेस्ट्री डिसीज के पूर्व अध्यक्ष रह चुके हैं। उनका दावा है कि एक ग्राम सब्जी की मात्रा भी मौत की दर को कम कर सकती है। डॉ. जियन ने अपने शोध में कहा है कि कोरोना महामारी से होने वाली मौत की दर उन देशों में कम है, जहां सब्जियां और फर्मेंटेड फूड का अधिक सेवन किया जाता है। उन्होंने खाने में खीरे, पालक और पत्तागोभी की मात्रा बढ़ाने की सलाह दी है।

इन सब्जियों में होता है सल्फोराफेन

शोधकर्ता का कहना है कि खीरा, पालक और पत्तागोभी वगैरह ब्रेसीकेसी फैमिली की सब्जियां हैं। इन सब्जियों में सल्फोराफेन होता है जो शरीर में Nrf2 को सक्रिय करता है। दरअसल, यही Nrf2 कोरोना वायरस के खिलाफ सुरक्षा देता है और संक्रमण को गंभीर होने से रोकता है। जिन देशों में इन चीजों का अधिक सेवन किया जाता है, वहां कोरोना संक्रमण के बाद मौत की दर कम रही है।

मौत का खतरा होता है कम

शोधकर्ताओं की टीम ने दावा किया कि केवल पत्तागोभी और खीरा खाने से भी कोरोना से होने वाली मौत की दर कम की जा सकती है। इस रिसर्च में दावा किया गया है कि लोगों की डाइट में पत्तागोभी शामिल कर मौत का खतरा 13.6 फीसदी और खीरे की मात्रा बढ़ाकर मौत का खतरा 15.7 फीसदी तक कम किया जा सकता है। विशेषज्ञों के मुताबिक, सब्जियों में एंटीऑक्सीडेंट अधिक मात्रा में पाए जाने के कारण ये डायबिटीज और दिल की बीमारियों का खतरा कम करती है। इस नए शोध में डॉ. जियन ने दावा किया है कि पत्तागोभी, पालक, खीरा, ब्रोकली और टमाटर आदि में एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा ज्यादा पाई जाती है।

इस शोध के बारे में डॉ. जियन और उनकी शोध टीम का कहना है कि कोरोना से होने वाली मौत की दर कम करने में कई कारकों की भूमिका होती है, जिनमें खानपान महत्वपूर्ण फैक्टर है। कोरोना की शुरुआत चीन के वुहान से हुई थी, लेकिन चीन में ही अलग-अलग जगह मौत की दर काफी अलग थी। शोध के मुताबिक, ब्रोकली, पत्तागोभी और खीरा जैसी सब्जियां इंसुलिन रेसिस्टेंस होती हैं और इनका ज्यादा इस्तेमाल करने वाले कई देशों में मौत की दर कम पाई गई।

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...