---Third party advertisement---

महाराष्ट्र में कंगना के ऑफिस को तोड़ने पर मुख्यमंत्री जयराम ने की भर्त्सना

कंगना हिमाचल से मुंबई के लिए रवाना हो चुकी है। कड़ी सुरक्षा के बीच आज सुबह कंगना मंडी के अपने पैतृक गांव से मुंबई रवाना हुई। इसी बीच महाराष्ट्र में बीएमसी ने उनके ऑफिस को तोड़ दिया है। मुख्यमंत्री ने कंगना के ऑफिस को तोड़े जाने की भर्त्सना की और इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है।
chief minister jairam condemned kangana s office in maharashtra
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने महाराष्ट्र में कंगना के ऑफिस को बीएमसी द्वारा तोड़े जाने पर कहा कि ये दुर्भाग्यपूर्ण है। महाराष्ट्र में शिवसेना की सरकार है और शिव सेना का गठन जिस चीज़ के लिए हुए था वह मूल ही ख़त्म कर दिया गया है। जब से शिव सेना ने कांग्रेस के साथ गठबंधन किया है शिव सेना का बजूद खत्म है शिव सेना की हालात भी कांग्रेस जैसी होने वाली है।

वहीं हिमाचल प्रदेश मॉनसून सत्र में भी कंगना के ऑफिस को तोड़ने का मामला गुंजा। देहरा के निर्दलीय विधायक होशियार सिंह ने ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के जरिए महाराष्ट्र में कंगना की ऑफिस तोड़े जाने का मामला उठाया। उन्होंने कंगना के आवास को गिराने को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और कहा कि कांग्रेस का शिव सेना के साथ गठबंधन है। इसलिए हिमाचल कांग्रेस पार्टी महाराष्ट्र कांग्रेस से उनकी सुरक्षा की बात करे। मुख्यमंत्री ने भी सदन में कहा कि इस घटना की वह निंदा करते है। हिमाचल कंगना की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है।

कांग्रेस पार्टी के नेता राम लाल ठाकुर ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार ने कंगना के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया है मामला कानून के तहत चल रहा है इसलिए हिमाचल विधानसभा में चर्चा की जरूरत नही है। बावजूद इसके सरकाघाट के विधायक कर्नल इंद्र सिंह बोलने के लिए खड़े हो गए। इस पर सदन तप गया और विपक्ष ने आपत्ति जाहिर की। विधानसभा अध्यक्ष ने मामला शांत करवाया तब जाकर इंद्र सिंह ने कंगना के सुरक्षा की पैरवी की। शिक्षा मंत्री गोविन्द ठाकुर ने भी मामले की निदा की। इस पर विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि उन्हें भी कंगना की सुरक्षा की चिंता है। लेकिन राम लाल ठाकुर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता है उन्होंने महाराष्ट्र विधानसभा के अविश्वास प्रस्ताव के सम्मान करने की बात कही है।

Post a comment

0 Comments