च्यवनप्राश करेगा कोरोना से लड़ने में मदद, टेस्ट में मिली सफलता

कोरोना माहामारी ने देश में अपने पैर पसार लिए हैं . लाख प्रयासों के बाद भी कोरोना पर काबू नहीं किया जा सका है . बल्कि जैसे -जैसे समय बीत रहा है , कोरोना के मामले देश में बढ़ते चले जा रहे हैं . भारत में कोविड19 संक्रमित लोगों की संख्या 42 लाख के पार हो गई है. अभी सबसे अधिक कोरोना प्रभावित देश अमेरिका में हैं, जहां संक्रमितों की संख्या 64 लाख से अधिक है. भारत में कोरोनावायरस के मामले दुनियाभर में सबसे तेजी से बढ़ रहे हैं. बीते 24 घंटे में देश में कोरोना के 90,802 नए मामले सामने आए और 1,016 लोगों की मौतें हुई हैं. भारत के साथ साथ पूरे दुनिया के वैज्ञानिक कोरोना का इलाज खोज रहे हैं . लेकिन पूरी तरह से सफलता अभी तक किसी के हाथ भी नहीं लग सकी है. बाकी देश जहां तकनीक पर भरोसा रख कर इसका इलाज खोजने में लगे हैं . वहीं भारत भी आयुर्वेद पर भरोसा जमा रहा है. जिसके परिषाम अच्छे मिल रहे हैं .बीते माह लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज में च्यवनप्राश जिसे आयुर्वेद संस्थान ने तैयार किया , इस च्यवनप्राश का ट्रायल किया गया . ये ट्रायल जून से अगस्त तक किया गया .  इस ट्रायल में 100 कर्मचारियों को च्यवनप्राश दी गई और 100 को नहीं दी गई. फिर च्यवनप्राश खाने और नहीं खाने वालों की इम्युनिटी परखी गई, जिसमें सकारात्मक नतीजे देखने को मिले हैं .  

माहामारी के इस दौर में अपनी इम्यूनिटी को बेहतर बनाने के लिए आप भी च्यवनप्राश का प्रयोग कर सकते हैं . च्यवनप्राश में कुछ ऐसे प्राकृतिक तत्व होते हैं, जो रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यूनिटी बढ़ाने का काम करते हैं. जिससे संक्रमण की संभावनाएं घट जाती हैं. सर्दीयों जिस तरह से च्यवनप्राश खासीं जुकांम से बचा सकता है, लगभग उसी तरह से संक्रमण से भी प्रभावशाली तरीके से लड़ सकता है . 

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...
loading...