गाय के गोबर से धूप बनाकर आत्‍मनिर्भर बनेंगी महिलाएं, प्रोजेक्ट शुरू

गाय के गोबर से धूप बनाकर आत्‍मनिर्भर बनेंगी महिलाएं, सिद्धिविनायक गोशाला में पायलट प्रोजेक्ट शुरू

गोबर से आर्थिकी की खुशबू महकेगी। जी हां! यह संभव होगा विकास खंड देहरा की बदौलत। यहां महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए देसी गाय के गोबर से धूप बनाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। मूहल में सिद्धिविनायक गोशाला में पायलट प्रोजेक्ट के तहत दो महिला स्वयं सहायता समूहों की 20 सदस्य देसी गाय के गोबर से धूप के साथ फिनाइल के तौर में प्रयोग किए जाने वाले गोनाइल को बनाने की विधि सीख रही हैं।

गोशाला के चेयरमैन सुनील शर्मा बताते हैं कि विकास खंड देहरा के तहत राष्ट्रीय आजीविका योजना की कड़ी में बीडीओ देहरा की प्रेरणा से इस कार्य को अमलीजामा पहनाया जा रहा है। महिलाओं के दो ग्रुप गोबर से धूप बनाने की विधि सीख रहे हैं। इसके बाद स्वयं सहायता समूह की सदस्य घर पर भी धूप बना सकती हैं। सिद्धिविनायक गोशाला प्रबंधन स्वयं सहायता समूहों की सदस्यों को देसी गाय का गोबर घर में मुहैया करवाएगा।

यह होगा धूप में इस्तेमाल

गोबर के साथ गूग्गल धूप, जटामासी, नखनां राल धूप व चंदन आदि का इस्तेमाल किया जाएगा। धूप प्रदूषण रहित होगा। इसके अलावा फिनाइल के तौर में प्रयोग होने वाले गोनाइल में नीम व गौमूत्र का इस्तेमाल होगा। धूप बनाने के लिए सबसे पहले गोबर को सुखाया जाएगा।

यह है धूप बनाने की विधि

धूप बनाने के लिए सबसे पहले गोबर को सुखाया जाता है। इसके बाद घास को निकाल कर साफ किया जाता है। फिर गोबर को मिक्सचर में ग्राइंड किया जाता है तथा जड़ी-बूटियां मिलाकर धूप बनाया जाता है।

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...