दिन में कई बार चीजें भूल जाते हैं, मेमोरी बढ़ाने के लिए अपनाएं ये टिप्स

दिन में कई बार चीजें भूल जाते हैं, मेमोरी बढ़ाने के लिए अपनाएं ये टिप्स

आपाधापी भरे जीवन में मनुष्य को हर दिन किसी ने किसी काम के लिए भागदौड़ करनी पड़ती है। घर, ऑफिस और अन्य कई कामों के कारण कार्यक्रम व्यस्त रहता है और रोजमर्रा के कई कामों से जुड़ी हुई चीजें हम भूलने लगते हैं। चाबी (Key), बटुआ (Wallet), कलम (Pen) आदि वस्तुओं को हम हर दिन इस्तेमाल करते हैं। कई बार ऐसा देखा जाता है कि घर से निकलते समय हम इन चीजों को भूल जाते हैं। कभी-कभी चीजों को भूलना सामान्य बात है लेकिन इसका एक प्रवृत्ति में बदलना चिंताजनक समस्या बन गई है। व्यस्त कार्य की गति, कभी न खत्म होने वाला ट्रैफिक और तनाव के कारण इंसान हर समय कुछ न कुछ भूल जाता है।

उन्हें यह जानने के लिए भी संघर्ष करना पड़ता है कि हम क्या कर रहे हैं। ऐसा भी नहीं है कि पूरी तरह याददाश्त (Memory) चली गई हो। कुछ समय के लिए जरूरी चीजें दिमाग (Mind) से निकल जाती हैं। इस समस्या से निजात पाने के लिए मेमोरी तेज करने की जरूरत होती है। इस लेख में कुछ ऐसे टिप्स बताए गए हैं जिनसे आप अपनी मेमोरी शार्प कर सकते हैं।

चीजें भूलने से बचने और याददाश्त बढ़ाने के टिप्स

मेडिटेशन
तनाव कम होने से दिमाग को रिलैक्स मिलता है और चीजें भूलने की समस्या में भी सुधार आता है. मेडिटेशन इसके लिए सबसे उपयुक्त उपाय है। मेडिटेशन का एक फायदा यह भी है कि इससे एकाग्रता बढ़ती है और चीजों पर फोकस भी बना रहता है। डैली लाइफ में चीजें भूलने वालों को मेडिटेशन का सहारा लेना चाहिए।

शराब का सेवन न करें
शराब का सेवन ज्यादा करने से भी याददाश्त में कमजोरी देखी गई है। ज्यादा शराब पीने वाले लोगों की मेमोरी और शराब नहीं पीने वाले लोगों की मेमोरी में बड़ा अंतर देखने को मिला है। कई रिसर्च में भी यह सामने आया है कि अत्यधिक शराब का सेवन करना मानिसक विकास और याददाश्त के लिए ठीक नहीं है। सीमित ड्रिंक करने से याददाश्त कमजोर होने पर उतना असर नहीं पड़ता।

पर्याप्त समय सोने में लगाएं
कई बार देखा जाता है कि रात को लोग देर तक जागते हैं और उनकी नींद पूरी नहीं हो पाती इसका दिमाग पर गहरा असर पड़ता है और शरीर में ताजगी भी नहीं रहती. स्वस्थ इंसान को 7 घंटे कम से कम सोना चाहिए. ज्यादा व्यस्तता होने की स्थिति में भी 6 घंटे की नींद लेना जरूरी है।

एक्सरसाइज करें
एक्सरसाइज करने से मानसिक तौर पर मजबूती मिलती है. इससे पूरा दिन मन भी प्रसन्न रहता है। 2017 की एक स्टडी के अनुसार एरॉबिक एक्सरसाइज (Aerobic Exercise) से याददाश्त में सुधार होता है। भागना, दौड़ना, पैदल चलना इसके अंतर्गत आते हैं. एक्सरसाइज इंसान के मानसिक स्वास्थ्य पर सीधा असर डालती है।

हल्दी का सेवन कर सकते हैं
हल्दी में एंटीऑक्सिडेंट्स होते हैं जिनसे दिमाग को मदद मिलती है. कुछ रिसर्च में हल्दी को अल्जाइमर और तनाव कम करने में मददगार बताया गया है। तनाव कम होने की स्थिति में याददाश्त में भी सुधार होता है।

उच्च कैलोरी वाला खाना नजरअंदाज करें
कुछ शोध में सामने आया है कि हाई कैलोरी वाला खाना खाने से मेमोरी पर असर पड़ने के अलावा मोटापा भी बढ़ता है। हाई कैलोरी खाने से दिमाग के विशेष हिस्सों पर आने वाली सूजन से याददाश्त खराब हो सकती है। ज्यादा उम्र के लोगों को अपनी हाई कैलोरी में तीस फीसदी से भी ज्यादा कमी करनी चाहिए। इससे मेमोरी पर अनुकूल प्रभाव पड़ने के आसार रहते हैं. वहीं चीनी को खाने में लगभग खत्म करने का प्रयास रखना चाहिए या इसकी मात्रा मामूली रखनी चाहिए।

माइंड पावर तकनीक की किताबें पढ़ें

कम उम्र में यदि याददाश्त में कमजोरी नजर आए तो माइंड पावर तकनीक (Mind Power Technique) की किताबों का प्रयोग कर सकते हैं। इनमें बताए गए टिप्स अपनाते हुए याददाश्त में सुधार किया जा सकता है।

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...
loading...