कंटीली झाड़ियों में बोरे में लिपटी पड़ी थी मासूम बच्ची

कंटीली झाड़ियों में बोरे में लिपटी पड़ी थी मासूम बच्ची

कहते हैं कि मारने वाले से बचाने वाला बड़ा होता है। इस बच्ची के मामले में भी यही हुआ। यह जरूरी नहीं कि दुंधमुंहे बच्चे बड़ों की तरह ही साहस दिखा सकें। नवजातों का साहस उनकी चीखों-रोने में भी दिखता है। यह बच्ची भी इतनी जोर से चीखी कि मौत भाग खड़ी हुई। इस बच्ची को जन्म के तुरंत बाद रात के पहर में झाड़ियों में फेंक दिया गया था। बोरे में लिपटी पड़ी यह बच्ची जब चीखी, तो वहां से निकल रहे लोगों का ध्यान गया। उन्होंने तुरंत 108 को सूचना दी। इस तरह यह बच्ची बच गई। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मामला बेलदगी गांव का है। मेडिकल कॉलेज के शिशु रोग विभाग के प्रभारी डॉ. जेके रेलवानी ने बताया कि बच्ची को उसी गांव की महिला ने स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। आगे पढ़ें ऐसी ही बच्चियों की कहानियां…

अंबिकापुर में मिली इस बच्ची का वजन 1 किलो 400 ग्राम है। डॉक्टरों को उम्मीद है कि बच्ची जल्द स्वस्थ्य हो जाएगी। आगे पढ़ें रेवाड़ी में फुटपाथ पर मिली बच्ची…

यह बच्ची हरियाणा के रेवाड़ी में औद्योगिक सेक्टर-5 में फुटपाथ पर पड़ी मिली। इसे भी जन्म के एक-दो बाद मरने के लिए छोड़ दिया गया। आगे पढ़ें…खेत में पड़ी नवजात बच्ची को काट रही थीं चींटियां, उसके संघर्ष को सलाम करने नाम रख दिया ‘कंगना’

यह बच्ची छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर जिले के उडुमकेला में मिली थी। कोई इस नवजात बच्ची को खेत में मरने के लिए छोड़कर चला गया था। जब बच्ची को चींटियां काटने लगीं, तो वो चीखने लगी। यह जबर्दस्त चीख खेत के मालिक के कानों तक पहुंची और बच्ची की जान बच गई। बच्ची को मातृछाया पहुंचाया गया। वहां उसका नाम कंगना रखा गया है। आगे पढ़िए..नवजात को उठाकर बेचने वाले..

इंदौर, मध्य प्रदेश. कुछ दिन पहले महिला थाना पुलिस ने नवजात बच्चों को गायब करके उन्हें बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। ईवा वेलफेयर सोसायटी के साथ संयुक्त कार्रवाई करके पुलिस ने 10 दिन की बच्ची को बेचने निकले एक कपल को गिरफ्तार किया है। ये बच्ची का सौदा 1.20 लाख रुपए में करना चाहते थे।दोनों आरोपी मेडिकल स्टाफ हैं। पढ़िए पूरी कहानी…

बच्ची को गिरोह से जब्त करने के बाद पुलिसकर्मी स्वाती पाठक चेकअप के लिए उसे गोद में उठाकर अस्पताल पहुंचीं। इस दौरान जब वो बच्ची को देखकर मुस्कराईं, तो वो भी मुस्कराकर उन्हें टुकुर-टुकुर देखने लगी। सीएमएचओ डॉ. राम नरेश कुशवाह ने बताया कि बच्ची स्वस्थ्य है। आगे पढ़ें इसी खबर के बारे में…

एनजीओ ईवा वेलफेयर सोसायटी ने महिला थाना पुलिस को शिकायत की थी कि एक कपल नवजात को बेचने घूम रहा है। इसके बाद पुलिस ने जाल बिछाया और खरीददार बनकर आरोपियों को दबोच लिया। आगे पढ़ें इसी खबर के बारे में…

यह आरोपी है नंदा नगर की ही रहने वाली शिल्पा पत्नी मनीष तेलंग। यह भी मेडिकल स्टाफ से जुड़ी है। आगे पढ़ें इसके साथी के बारे में…

यह है आरोपी बबूल उर्फ तेजकरण पुत्र हेमराज ठक्कर। ये नंदा नगर में रहता है। आरोपी पेश से मेडिकल स्टाफ है।

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...