---Third party advertisement---

सुनो सरकार! यहां आजादी के 73 वर्ष बाद भी चारपाई पर लेने जाने पड़ रहे बीमार



 हिमाचल/बिलासपुर:सदर विधानसभा क्षेत्र की ग्राम पंचायत नौणी के गांव नौणी के लोगों को आजादी के 73 वर्ष बाद भी सड़क सुविधा से वंचित रहना पड़ रहा है, जिस कारण लोगों को भारी असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है। इस गांव के लोगों को उस समय भारी परेशानी होती है जब गांव में कोई बीमार हो जाए। बीमारी की हालत में बीमार को पालकी में बिठाकर सड़क तक पहुंचाना पड़ता है। इसका उदाहरण शुक्रवार को उस समय देखने को मिला जब गांव में एक बुजुर्ग महिला बीमार हो गई।

बहुओं ने हिम्मत जुटा राष्ट्रीय उच्च मार्ग तक पहुंचाई वृद्धा

गांव के रमेश कौंडल ने बताया कि लछमी देवी (72) को अचानक घर में चक्कर आया और वह घर के प्रांगण में ही गिर गई। इस दौरान लछमी देवी की छोटी बहू रीता देवी ने हिम्मत दिखाते हुए अपनी जेठानी सुनीता देवी व बच्चों को साथ लेकर चारपाई पर लछमी देवी को लेटा दिया व चारपाई को एक किलोमीटर तक कंधे पर उठाकर राष्ट्रीय उच्च मार्ग तक पहुंचाया। जहां से उसे वाहन के माध्यम से उपचार के लिए क्षेत्रीय अस्पताल पहुंचाया।

सड़क की मांग पर हर बार आश्वासन ही मिले

रमेश कौंडल ने बताया कि इस गांव के लोग पिछले कई वर्षों से सड़क की मांग करते आ रहे हैं लेकिन उन्हें हर बार आश्वासन ही मिले। चुनावों के समय इस गांव में नेता केवल वोट मांगने ही आते हैं और वोट लेने के बाद गांव की खैर-खबर लेना भी गवारा नहीं समझते। वहीं ग्रामीणों का कहना है कि इस गांव को सड़क से जोड़ा जाए अन्यथा ग्रामीण इकट्ठे होकर धरना प्रदर्शन करने के लिए मजबूर होंगे।

सड़क के लिए जमीन नहीं दे रहे लोग : प्रधान

वहीं इस बारे में ग्राम पंचायत प्रधान निर्मला राजपूत ने बताया कि नौणी गांव तक सड़क सुविधा है और जहां पर लछमी देवी रहती है वहां केवल उनका ही परिवार रहता है तथा वहां तक पक्का रास्ता बनाया गया है। उन्होंने बताया कि संबंधित घर तक सड़क बनाने के लिए पंचायत द्वारा मनरेगा के तहत सैल्फ डाला गया है लेकिन सड़क के लिए लोग जमीन ही नहीं दे रहे हैं। यदि लोग स्वेच्छा से जमीन दे देते हैं तो मनरेगा से सड़क बनवा दी जाएगी।
हिमाचल की ताज़ा ख़बरों के लिए अभी लाइक करें हमारा फेसबुक पेज
loading...

Post a comment

0 Comments