---Third party advertisement---

शिक्षा बोर्ड की लापरवाही : छात्रा को पहले दिए 43 नम्बर, री-चैकिंग में मिले 100/100

43 number given to the girl student 100 received in re checking

शिक्षा बोर्ड की लापरवाही बच्चों के भविष्य पर कई बार भारी पड़ जाती है, जिस कारण बच्चा न आगे का रहता है और न ही पीछे का। ऐसी ही लापरवाही शिक्षा बोर्ड की राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल पोर्टमोर में देखने को मिली। जहां पर शिक्षा बोर्ड ने शगुन नाम की छात्रा को गणित विषय में पहले 43 नम्बर दे दिए जबकि री-चैकिंग के बाद उसके 100 में से 100 नम्बर पाए गए। बोर्ड की ऐसी लापरवाही कहीं न कहीं गरीब वर्ग के छात्रों पर भारी पड़ सकती है क्योंकि गरीब तबके के छात्र कभी भी री-चैकिंग बहुत कम करवाते हैं। पोर्टमोर स्कूल में भी यदि स्कूल प्रशासन ने उक्त छात्रा के पक्ष में शिक्षा बोर्ड से पेपर री-चैकिंग नहीं करवाया होता तो यह भी 43 नम्बर के साथ ही पास हो गई थी।

गणित विषय को छोड़ अन्य सभी विषय में थे 90 से अधिक नंबर
पोर्टमोर की दसवीं कक्षा की छात्रा शगुन ने बोर्ड की परीक्षा में अच्छे नंबर लेकर स्कूल में पहला स्थान प्राप्त किया है। शगुन ने गणित विषय में 100 में 100 नम्बर लेकर स्कूल व अपने परिवारजनों का नाम रोशन किया है। शगुन ने यह मुकाम शिक्षा बोर्ड की लापरवाही के चलते तीसरे दिन पूरा किया है। बता दें कि शिक्षा बोर्ड ने मंगलवार को दसवीं कक्षा का परीक्षा परिणाम घोषित कर दिया था। उस परिणाम में शगुन ने गणित विषय को छोड़ अन्य सभी विषय में 100 में से 90 से अधिक नंबर लिए थे।

स्कूल प्रशासन ने बोर्ड से दोबारा चैक करवाया पेपर
शिक्षा बोर्ड द्वारा जारी मार्कशीट में शगुन को गणित विषय में मात्र 43 नंबर दिए गए थे जबकि उक्त छात्रा स्कूल में हर बार टॉपर रहती थी। स्कूल प्रशासन ने जब शगुन के गणित विषय में नम्बर देखे तो उन्होंने उक्त छात्रा से बातचीत की। शगुन ने स्कूल प्रशासन को बहुत अच्छा पेपर होने की बात कही, जिसके बाद स्कूल प्रशासन ने शिक्षा बोर्ड से उक्त छात्रा का गणित विषय का पेपर दोबारा से नंबर चैक करने की मांग की।

स्कूल में गणित विषय में 100 नम्बर लेने वाली पहली छात्रा बनी शगुन

बोर्ड द्वारा जब दोबारा से शगुन का गणित विषय का पेपर चैक किया गया तो उसे हैरान कर देने वाली तस्वीर सामने आई। एक ओर शगुन के नंबरों में उछाल आया, वहीं दूसरी ओर से शगुन स्कूल में भी टॉपर बन गई। शिक्षा बोर्ड ने अपनी वैबसाइट पर शगुन की मार्कशीट दर्शाई तो उसमें उसने गणित के विषय में 43 की जगह 100 नंबर लिए हुए हैं, जिसके बाद शगुन स्कूल में गणित विषय में 100 नम्बर लेने वाली पहली छात्रा बनी। स्कूल के प्रधानाचार्य नरेंद्र कुमार सूद ने छात्रा को बधाई दी है।

बोर्ड ने पेपर चैक करने वाले अध्यापक से मांगा जवाब

शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन डॉ. सुरेश सोनी ने बताया कि पोर्टमोर स्कूल की छात्रा के गणित विषय में गलत नंबर जोड़ दिए गए थे। पहले उसके गणित में 25 नम्बर थे तथा पास होने के लिए 28 नम्बर की जरूरत होती थी, ऐसे में उसे 3 नम्बर की अतिरिक्त ग्रेस दी गई थी। इसके अलावा उसको 15 नम्बर इंटरनल असैस्मैंट के दिए हुए थे। इन सब को जोड़ कर 43 नंबर बने थे। जब पेपर की री-चैकिंग की मांग की गई तो उसमें उसके 85 नम्बर बन रहे थे जो जोड़े हुए नहीं थे। बोर्ड ने पेपर चैक करने वाले अध्यापक से जवाब मांगा है।
हिमाचल की ताज़ा ख़बरों के लिए अभी लाइक करें हमारा फेसबुक पेज
loading...

Post a comment

0 Comments