---Third party advertisement---

आग से झुलसी महिला ने टांडा अस्पताल में तोड़ा दम, पति का चल रहा उपचार

आग से झुलसी महिला ने टांडा अस्पताल में तोड़ा दम, पति का चल रहा उपचार

 पुलिस थाना चुवाड़ी के तहत आग से बुरी तरह झुलसी महिला ने कांगड़ा स्थित डॉ. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल टांडा में उपचार के दौरान बुधवार रात दम तोड़ दिया। 65 प्रतिशत जल चुकी इस महिला ने बुधवार रात करीब 7.30 बजे अंतिम सांस ली। सिहुंता क्षेत्र से संबंधित उक्त 30 वर्षीय महिला ने एक सप्ताह पूर्व खुद पर मिट्टी का तेल छिड़क कर आग लगा ली थी। पत्नी को आग की लपटों के बीच जलता देख उसे बचाने आए उसके पति के हाथ भी झुलस गए थे। बुरी तरह जल चुकी महिला को उपचार के लिए टांडा अस्पताल लाया गया था, जहां 6 दिन उपचाराधीन रहने के बाद जख्मों का ताव न सहते हुए उसने दम तोड़ दिया।

6 तथा 3 साल की 2 बेटियां छोड़ गई महिला

सिहुंता चौकी प्रभारी सुरजीत गुलेरिया की अगुवाई में पहुंची पुलिस ने घटना के बाद ही लिए महिला के बयानों के बाद पति के खिलाफ प्रताडि़त करने का मामला दर्ज कर लिया था। घटना के बाद मौके पर पहुंची फोरैंसिक टीम ने साक्ष्य लिए थे। आरोपी पति के हाथों के झुलसे होने के कारण उसे भी उपचार के लिए टांडा लाया गया था। इस घटना से इस परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। महिला अपने पीछे 6 तथा 3 साल की 2 बेटियां छोड़ गई है, जो सिहुंता स्थित घर में अपनी दादी के साथ रह रही हैं।

शराब का आदी था पति

महिला बयानों के अनुसार नाई की दुकान करने वाला उसका पति शराब का आदी था तथा इसी के चलते घर में आए दिन झगड़ा होता था। इसी की परिणति यह हुई कि महिला ने आत्महत्या जैसा कदम उठाकर अपनी 2 बेटियों को भी दयनीय स्थिति में खड़ा कर दिया। वहीं आरोपी का इलाज टांडा में जारी है। पुलिस थाना चुवाड़ी में आरोपी पति के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 498 ए तथा 306 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। एसएचओ चुवाड़ी रोहित गुलेरिया ने मामले की पुष्टि की है।
हिमाचल की ताज़ा ख़बरों के लिए अभी लाइक करें हमारा फेसबुक पेज
loading...

Post a comment

0 Comments