3 दिन पैदल चलकर पंजाब से बैजनाथ पहुंचा युवक और फिर.....


पंजाब से मीलों दूर पैदल सफर कर अपनों से मिलने की चाह में एक युवक को अपने घर की दहलीज पर क्वारंटाइन होना पड़ा। शनिवार को प्रशासन को पंचायत प्रधान के माध्यम से जैसे ही इस मामले की भनक लगी कि एक युवक जालंधर से पैदल चलकर बैजनाथ पहुंच गया है तो पुलिस ने मुस्तैदी दिखाते हुए पूछताछ के बाद प्रशासन ने उक्त युवक को 28 दिनों तक क्वारंटाइन पर रखने का फैसला लिया। युवक की पहचान राकेश कुमार पुत्र धनीराम निवासी ठारा के रूप में हुई है।

शनिवार सुबह पहुंचा था बैजनाथ
जानकारी के मुताबिक युवक जालंधर में एक निजी कंपनी में सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी करता है व गत 3 दिनों से वह पैदल सफर कर शनिवार सुबह बैजनाथ पहुंचा था। बताया गया कि जहां-जहां भी पुलिस बैरियर युवक को दिखाई देता था वहीं से वह रास्ता बदल लेता था। हिमाचलसे.कॉम बैजनाथ के डीएसपी पूर्ण चंद ठुकराल ने बताया कि पुलिस पूछताछ में युवक ने बताया कि चिंतपूर्णी के समीप उसने एक सब्जी वाली गाड़ी में लिफ्ट ली थी जिसके बाद वह पहले कांगड़ा पहुंचा जिसके बाद युवक ने शुक्रवार को पालमपुर के बस स्टैंड में रात काटी व शनिवार को सुबह वह बैजनाथ पहुंचा।

14 दिनों तक क्वारंटाइन किया
बैजनाथ की एसडीएम छवि नांटा ने बताया कि युवक को क्वारंटाइन सैंटर भेजा गया है। उन्होंने बताया कि इसके अलावा शनिवार को 6 लोगों को काजा से वापस आने पर घट्टा बार्डर पर पकड़कर क्वारंटाइन सैंटर में 14 दिनों तक क्वारंटाइन कर लिया गया है। इसके साथ ही बुहली कोठी में बीते शुक्रवार को दिल्ली से इलाज करवाकर वापस लौटी गोरखा परिवार की महिला सहित अन्य 4 परिजनों को घर में होम क्वारंटाइन कर लिया गया है।

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...