---Third party advertisement---

बारिश से किसानों को करोड़ों रुपयों की चपत

ऊना में तेज बारिश और तूफान से गिरी गेहूं की फसल।

जिले में बीते दिनों हुई भारी बारिश, तेज तूफान व ओलावृष्टि से किसानों की फसलों को भारी नुकसान हुआ है। बुधवार शाम तक जिला में खराब मौसम के कारण 5.70 करोड़ रुपये तक का नुकसान हो चुका है, लेकिन वीरवार को हुई भारी बारिश, तेज तूफान व ओलावृष्टि ने किसानों के नुकसान को और अधिक बढ़ा दिया है। कृषि विभाग नुकसान का आकलन करने के लिए खंड स्तर पर कार्य कर रहा है। वर्तमान समय में जिला में सबसे ज्यादा गेहूं व आलू की फसल लगाई गई है। गेहूं की फसल 29000 हेक्टेयर क्षेत्र में लगाई गई है। करीब 1450 हेक्टेयर क्षेत्र में गेहूं की फसल खराब मौसम के कारण बर्बाद हो गई है। जिले में 744 हेक्टेयर क्षेत्र में लगाई गई आलू की फसल का 10 फीसदी हिस्सा ओलावृष्टि के कारण बर्बाद हो गया है। जिला के किसानों को करोड़ों रुपयों का नुकसान हुआ है।

किसानों राम कुमार, अजय, दया, प्यारा लाल, होशियार सिंह, दरवारा लाल, जगतार सिंह, करनैल सिंह आदि ने बताया कि वीरवार रात को हुई भारी बारिश व ओलावृष्टि से किसानों को भारी नुकसान हुआ है। बुधवार तक कृषि विभाग के आंकड़ों के अनुऊना। सार खराब मौसम के कारण गेहूं की फसल का 5.70 करोड़ का नुकसान हुआ है। वीरवार को हुई भारी बारिश से यह नुकसान 10 से 15 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है। करीब 15-20 करोड़ रुपये तक क्षति आलू की फसल को हुई है। इसके साथ सब्जियों की फसलों को करीब 10 करोड़ का नुकसान हुआ है। कुल मिलाकर कम से कम 50 करोड़ तक नुकसान हुआ है। उन्होंने सरकार से उचित मुआवजा देने की मांग की है।

विभाग कर रहा नुकसान का आकलन : डॉ. कपूर
कृषि उपनिदेशक डॉ. सुरेश कपूर ने कहा कि जिला में कृषि विभाग के आंकड़ों के अनुसार बुधवार तक 5.70 करोड़ का नुकसान गेहूं की फसल को हुआ है। वीरवार को हुई बारिश के नुकसान का विभाग खंड स्तर पर आकलन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि वीरवार की बारिश से जिले में गेहूं की फसल के साथ-साथ आलू की फसल व बेलदार सब्जियों को नुकसान हुआ है।
loading...

Post a Comment

0 Comments