---Third party advertisement---

कोरोना वायरस के चलते हिमाचल में पारिवारिक समारोह करवाने पर भी लगी रोक, विवाह के लिए यह हिदायत जारी

Coronavirus: हिमाचल में पारिवारिक समारोह करवाने पर भी लगी रोक, विवाह के लिए यह हिदायत जारी

धर्मशाला,
प्रदेश सरकार ने कोरोना वायरस के खिलाफ एहतियात बरतते हुए पारिवारिक समारोहों पर भी रोक लगा दी है। मंगलवार को जारी अधिसूचना के तहत राज्य में अब किसी भी तरह के पारिवारिक, धार्मिक व राजनीतिक समारोह नहीं हो सकेंगे। पारिवारिक तौर पर होने वाले जन्मदिन, सालगिरह, विवाह, मुंडन, गृह प्रवेश आदि में भीड़ नहीं जुटाई जा सकेगी। सांस्कृतिक व सामाजिक समारोहों पर भी रोक रहेगी। प्रदेश के शक्तिपीठों में कपाट आगामी आदेश तक बंद कर दिए गए हैं।

कांगड़ा,जिला के तीनों शक्तिपीठों तीनों शक्तिपीठ मां ज्वालामुखी, मां बज्रेश्वरी कांगड़ा व चामुंडा नंदिकेश्वर धाम व सिद्धपीठ बगलामुखी के द्वार मंगलवार को बंद कर दिए गए। सुबह तीनों शक्तिपीठों में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने मां के दर्शन किए। इसके बाद प्रशासन हरकत में आया व शक्तिपीठों के मुख्यद्वार बंद करने के आदेश दिए। विरोध कर रहे श्रद्धालुओं को प्रशासन ने समझा-बुझाकर घर भेजा। ऊना जिला में मां चिंतपूर्णी मंदिर के कपाट मंगलवार सुबह दस बजे बंद कर दिए गए। शक्तिपीठ नयनादेवी मंदिर में भी प्रशासन ने माता के दर्शन पर पाबंदी लगा दी। श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए शक्तिपीठों के दर्शन यू-ट्यूब व वेबकास्टिंग के माध्यम से कराने का प्रावधान किया जा रहा है। हमीरपुर जिला में बाबा बालकनाथ मंदिर में अब पुजारी ही सुबह-शाम पूजा अर्चना करेंगे, जिसका लाइव प्रसारण होगा। मंडी जिला के सिमस माता मंदिर में नवरात्र के मेले रद कर दिए गए हैं। धर्मशाला में राज्य युद्ध स्मारक सहित अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम को भी बंद कर दिया गया है।
loading...

Post a Comment

0 Comments