---Third party advertisement---

Kangra: पालमपुर में शादी के दिन दुल्हन के पिता की हो गई मौत, घरवालों ने कर दी विदाई बेटी को बताया तक नहीं

Kangra: पालमपुर में शादी के दिन दुल्हन के पिता की हो गई मौत, घरवालों ने कर दी विदाई बेटी को बताया तक नहीं

HimachalSe: नियति के खेल भी इंसान की समझ से परे हैं, जो पल भर में सारा मंजर बदल कर रख देती है। कहां एक पिता अपनी लाडली के हाथ पीले कर उसे खुशी-खुशी विदा करने की तैयारियों में लगा था कि काल के क्रूर पंजों ने उसे अपनी बेटी के कन्यादान का अवसर तक नहीं दिया। पालमपुर के गांव फरेढ़ में सोमवार को हृदय विदारक दृश्य था, जब अल सुबह बेटी की डोली की विदाई के बाद पिता की अर्थी घर से निकली। जानकारी मुताबिक फरेढ़ में मनियारी की दुकान करने वाले हेमराज चौधरी (57) पुत्र स्व. तुलसी राम चौधरी रविवार को अपनी छोटी बेटी की शादी की तैयारियों में पूरे उत्साह से जुटे हुए थे।

शाम को घर में बारात आनी थी। सुबह करीब 11.30 बजे उन्हें दिल का दौरा पड़ा और वह जमीन पर गिर गए। शादी की रस्में निभाने में व्यस्त परिजन व रिश्तेदार तुरंत उन्हें सिविल अस्पताल पालमपुर ले गए, जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। अचानक हुए इस घटनाक्रम से शादी की तैयारियों में लगे परिजनों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। हालांकि बड़े-बुजुर्गों से सलाह के बाद विवाह का पूर्व निर्धारित कार्यक्रम जारी रखने का फैसला लिया गया। दुख की इस घड़ी के बीच ही सगे-संबंधियों ने अपने आंसुओं को छिपाकर बारात की अगवानी की और शादी की रस्में पूरी कर सोमवार सुबह बेटी को ससुराल विदा किया।

वहां उपस्थित लोगों की आंखें उस समय भर आईं, जब दुल्हन बनी बेटी की आंखें विदाई के समय अपने पिता को तलाशती रहीं, लेकिन घरवालों ने कोई न कोई बहाना बनाकर उसे यह खबर नहीं होने दी कि जिस पिता के साये तले वह पली-बढ़ी, वह अपनी बेटी को दुल्हन बनी देखने के लिए अब इस दुनिया में नहीं रहे। सोमवार दोपहर बाद हेमराज का फरेढ़ श्मशानघाट पर अंतिम संस्कार कर दिया गया। हेमराज अपने पीछे 2 बेटियां व एक बेटा छोड़ गए। कन्या की शादी के दिन अचानक हुई पिता की मौत से पूरा गांव शोकाकुल है।
loading...

Post a Comment

0 Comments