हिमाचल में बर्फबारी से बिगड़े हालात, एचआरटीसी के 80 रूट प्रभावित

हिमाचल में बर्फबारी से बिगड़े हालात, एचआरटीसी के 80 रूट प्रभावित
समूचा राज्य शीतलहर की चपेट में   कल्पा, केलांग, मनाली व कुफरी का पारा माइनस में  कोठी में सबसे ज्यादा 75 सेंटीमीटर बर्फबारी  शिमला जिला में एचआरटीसी के 80 रूट प्रभावित  कुल्लू जिला के कई गांवों में बिजली गुल, लोग परेशान  किसानों-बागबानों के साथ पर्यटन कारोबारियों के चेहरे खिले  15 तक खराब रहेगा मौसम,

16 से सुधरेंगे हालात - हिमाचल प्रदेश में बर्फबारी के बाद कर्फ्यू जैसी स्थिति बन गई है। पहाड़ों इलाकों में भारी बर्फबारी ने लोगों को घरों में कैद होने पर मजबूर कर दिया है। लगातार बारिश व बर्फबारी से राज्य के अधिकतर क्षेत्रों में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। खासतौर पर राज्य के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में पड़ रही ठंड ने लोगों का जीना मुश्किल कर दिया है। राज्य के कल्पा, केलांग, मनाली, डलहौजी व जिला शिमला के ऊपरी क्षेत्रों में तापमान जमाव बिंदु से नीचे चल रहा है।

बारिश-बर्फबारी से ऊंचाई वाले इलाकों में रह रहे लोगों की दुश्वारियां भी बढ़ गई हैं। कई इलाकों में बिजली, पेयजल, यातायात प्रभावित हुआ है। दर्जनों सड़कें बर्फबारी के कारण बंद है। लाहुल स्पीति, किन्नौर के रिकांगपिओ सहित इन्य इलाकों, शिमला जिला के नारकंडा, कुफरी, चाशल, खड़ा पत्थर, चंबा के भरमौर, पांगी, सिरमौर के हरिपुरधार, चूड़धार व कांगड़ा के धौलाधार की ऊंची चोटियां, बड़ा भंगाल, मंडी के शिकारी देवी और अन्य ऊंचाई वाले इलाके बर्फ से सराबोर है।

कुल्लू जिला के कई गांवों में बिजली गुल होने से लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। मलाणा गांव में डेढ़ फुट ताजा बर्फबारी हुई है। तीन दिन से मलाणा क्षेत्र में बिजली गुल होने से लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि राज्य में कुछ स्थानों पर दोपहर के समय हल्की धूप खिली रही, मगर शाम के समय फिर से बारिश व बर्फबारी का क्रम जारी हो गया। भारी बर्फबारी के कारण जिला शिमला के चौपाल और रोहड़ू का संपर्क शेष विश्व से कट गया है।

बर्फबारी के चलते नारकंडा, ठियोग, मतियाना, कोटखाई के लिए बस सेवाएं शुक्रवार को भी बंद रहीं। रामपुर और किन्नौर के लिए पथ परिवहन निगम द्वारा मशोबरा होकर बसें भेजी जा रही हैं। शिमला जिला में एचआरटीसी के करीब 80 बस रूट प्रभावित हुए हैं। हालांकि दिसंबर माह में हो रही भारी बारिश से किसानों-बागबानों और पर्यटन कारोबारियों के चेहरे पर रौनक लौटी है। वहीं ऊंची पहाडि़यों में हो रही भारी बर्फबारी से प्राकृतिक जलस्रोतों को भी संजीवनी मिली है।

राजधानी शिमला के अतिरिक्त मुख्य पर्यटक स्थल कुफरी, नारकंडा, नालदेहरा में बर्फबारी को देखने के लिए सैलानियों का हुजूम उमड़ पड़ा है। ताजा बर्फबारी का दीदार करने के लिए चंडीगढ़, पंजाब, हरियाणा और दिल्ली से सैलानी पहुंच रहे हैं।

इस दौरान राजधानी शिमला सहित पहाड़ों पर कई स्थानों पर बर्फबारी हुई है। शिमला में हल्की बर्फबारी के दौरान सैलानियों को मौज मस्ती करते हुए देखा गया। उधर, अधिकतम तापमान में एक से चार डिग्री सेल्सियस डिग्री की गिरावट रिकार्ड की गई है। शुक्रवार को चंबा के तापमान में सबसे ज्यादा चार डिग्री सेल्सियस की गिरावट रिकार्ड की गई। इसके अलावा धर्मशाला, ऊना, नाहन, कांगड़ा व डलहौजी के पारे में गिरावट आई है। मौसम विभाग के निदेशक डा. मनमोहन सिंह ने बताया कि बताया कि पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से मौसम में बदलाव आया है। राज्य भर में 15 दिसंबर तक मौसम खराब बना रहेगा। इस दौरान राज्य के कुछ स्थानों पर बारिश व बर्फबारी होगी, जबकि राज्य में 16 से 19 दिसंबर तक मौसम साफ बना रहेगा।

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...
loading...