---Third party advertisement---

Kangra: गगल हवाई अड्डे के विस्तारीकरण की चर्चाओं ने लोगों में मचाया हड़कंप, विस्थापन की सताने लगी चिंता

 

News Source: Divya Himachal - गगल-कांगड़ा जिला के गगल हवाई अड्डे के विस्तारीकरण की चर्चाओं ने स्थानीय लोगों में हड़कंप मचा दिया है। ग्रामीणों में इस बात की चिंता है कि क्या सरकार उनकी भूमि का अधिग्रहण करेगी और क्या विस्थापितों को कहीं बसाया भी जाएगा। हवाई अड्डे के विस्तारीकरण की चर्चाओं ने माहौल गरमा दिया है।

गगल हवाई अड्डे के विस्तारीकरण से गांव बेंटलु, रछियालु, कुठमां, भेड़ी, सनोरा, गगल और इच्छी तक की जगह सरकार लेने के बारे में विचार कर रही है। इससे इस विस्तारीकरण से सैकड़ों लोग प्रभावित होंगे, जबकि कइयों का रोजगार प्रभावित होगा और कइयों को दूसरी बार विस्थापन का दंश झेलना होगा। लोग परेशान हैं कि जहां तक इस हवाई अड्डे का विस्तारीकरण करना है, तो एक बार ही किया जाए, ताकि बार-बार लोगों को विस्थापन का दंश न झेलना पड़े।

वहीं इसके लिए गगल हवाई अड्डे पर जिलाधीश राकेश प्रजापति, एसडीएम कांगड़ा जतिन लाल, विमानपत्तन प्राधिकरण सिविल हवाई अड्डा गगल के अधिकारियों के बीच एक बैठक भी हुई। हिमाचलसे.कॉम हालांकि बैठक में क्या चर्चा हुई, इस बारे में कोई भी जानकारी सामने नहीं आई। गगल हवाई अड्डे के विस्तारीकरण की चर्चाएं पिछले 10 सालों से यहां के लोग सुन-सुन कर परेशान हैं।

अब अखबारों के माध्यम से पता चला है कि यहां गगल हवाई अड्डे  के रनवे विस्तार 1370 मीटर से बढ़ाकर 2500 मीटर तक करने की योजना है। ग्रामीणों का मानना है की सरकार ने अगर इस हवाई अड्डे का विस्तार करना है और कितनी जमीन का अधिग्रहण करना है, तो इसकी स्थिति जल्द स्पष्ट करे। पिछले 12 वर्षों से यहां के लोग अपने मकानों की न तो मरम्मत करवा पा रहे हैं और न ही नए बना पा रहे हैं।

गगल हवाई अड्डे के विस्तारीकरण के लिए जो जिलाधीश की अगवाई में कमेटी का गठन हुआ है, वह लोगों के बीच आकर बात करे और उनकी मांगों पर भी ध्यान दिया जाए। लोगों का यह भी कहना है कि अगर विस्थापन करना है, तो कमेटी उनको बसाने के लिए जगह का भी प्रावधान करे और मुआवजे पर भी बात करे। लोगों की यह भी मांग रहेगी कि सरकार बेरोजगारों के रोजगार का प्रबंध करे और मुआवजे की जो राशि है, उससे चार गुना प्रदान की जाए।
loading...

Post a Comment

0 Comments