---Third party advertisement---

Mandi: तीन-सात साल की बच्चियों से दुराचार… अब धमकियां दे रहा आरोपी का परिवार

Misbehavior with girls

एक तरफ पूरा देश हैदराबाद में महिला डाक्टर के साथ हुई दरिंदगी से गुस्से में है, तो वहीं सुंदरनगर के अंतर्गत सात व तीन वर्षीय बच्ची से दुष्कर्म का प्रयास करने के शर्मनाक मामले में समाज आंख मूंदे बैठा है, जिसके चलते आज दो माह गुजर जाने के बाद भी बच्चियां व उनके परिजन दहशत के साए में जीने को मजबूर हैं, जबकि आरोपी खुलेआम घूम रहा है।

दुष्कर्म के आरोपी व उसके परिवार के लोगों द्वारा सरेआम पीडि़त परिवार को प्रताडि़त, जलील व दबंगई किए जाने के चलते आज दोनों बच्चियां अपनी मां संग घर-बार व स्कूल छोड़ दूर ननिहाल में जीने को मजबूर हैं। पीडि़त बच्चियों के परिजनों का कहना है कि दुष्कर्म मामले में शिकायत के बाद उन्हें हीन भावना से देखा और प्रताडि़त किया जा रहा है। मामले में अधिकतर पंचायत प्रतिनिधि व ग्रामीण उनसे कन्नी काट रहे हैं और जब भी पुलिस व अन्य मामले की जांच को बुलाते हैं, तो कोई भी सहयोग नहीं करता। वहीं, दुष्कर्म आरोपी व उसके परिजन ताने देते हैं और कहते हैं कि उनका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता और धमकाते हैं कि मामले में शिकायत कर उन्होंने बड़ी गलती की है, जिसकी बदनामी व खामियाजा उन्हें ही भुगतना होगा।

यह है मामला - पिछले कुछ माह से रिश्तेदारी में भाई लगने वाला लड़का ट्यूशन की आड़ में सात वर्षीय बच्ची से दुष्कर्म को अंजाम दे रहा था। बच्ची से लगातार दुष्कर्म किए जाने से जब उसकी तबीयत ज्यादा बिगड़ी और आरोपी ने तीन वर्षीय छोटी बच्ची से भी दुष्कर्म का प्रयास किया, तो बच्ची ने मामले का खुलासा दादी के समक्ष कर दिया, लेकिन मामले में दबाव के चलते मामला पुलिस तक न पहुंच पाया। आखिर मामला मीडिया द्वारा उजागर किए जाने व बच्चियों की मां द्वारा शिकायत मुख्यमंत्री संकल्प सेवा 1100 पर किए जाने पर पुलिस हरकत में आई और मेडिकल में सात वर्षीय बच्ची से दुष्कर्म की पुष्टि हुई, जबकि छोटी बच्ची से भी दुष्कर्म के प्रयास की बात सामने आई।

पुलिस को दो महीने बाद भी नहीं मिल पाई रिपोर्ट - पुलिस द्वारा आरोपी व तीन वर्षीय बच्ची का मेडिकल सुंदरनगर में करवाया गया था, जबकि सात वर्षीय दुष्कर्म पीडि़ता बच्ची का मेडिकल मंडी में करवाया गया, लेकिन दो महीने बाद भी आरएफएसएल रिपोर्ट पुलिस अभी तक प्राप्त नहीं कर पाई है। हालांकि इस संदर्भ में परिजन भी अपने स्तर पर बार-बार पुलिस अधिकारियों से जानकारी मांग चुके हैं। परिजनों के अनुसार अधिकारी रिपोर्ट अन्यंत्र चले जाने की बात करते हैं। वहीं, इस मामले में सलापड़ चौकी प्रभारी राजेंद्र कुमार का कहना है कि अभी मामले में आरएफएसएल रिपोर्ट नहीं आई है। एसएचओ कमलकांत का कहना है कि दुष्कर्म मामले का न्यायालय में चालान पेश किया गया है। News Source: Divya Himachal
loading...

Post a Comment

0 Comments