---Third party advertisement---

Himachal: सोशल मीडिया पर न भेजें अश्लील मैसेज. पोर्न मैटीरियल सर्कुलेट करने पर होगी कार्रवाई

सोशल मीडिया पर न भेजें अश्लील मैसेज
सोशल मीडिया पर यदि प्रोर्नोग्राफिक मैटीरियल भेजा तो खैर नहीं। फेसबुक, मैसेंजर, व्हाट्सएप सहित सोशल मीडिया के सभी प्लेटफार्म चलाते समय लोगों को ध्यान रखना होगा। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने हिमाचल प्रदेश से बच्चों के अश्लील फोटो और वीडियो वायरल करने और सोशल मीडिया में अपलोड करने वाले लोगों की सूची तैयार की है। यह सूची पुलिस हैडक्वार्टर शिमला सहित राज्य के सभी थानों को भेजी गई है। 

बताया जा रहा है कि अकेले कुल्लू जिला में ही ऐसे सात मामले दर्ज किए गए हैं। इस संबंध में जांच की जा रही है। वहीं, गृह मंत्रालय ने संबंधित कंपनियों को भी इस पर नजर रखने के लिए हिदायत दी है। अगर कोई भी व्यक्ति पोर्न मैटीरियल सर्कुलेट करता है, तो कंपनी को अलर्ट रहना होगा और मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स को इसकी जानकारी देनी होगी। 

बताया जा रहा है कि साइबर क्राइम को ध्यान में रखते हुए गृह मंत्रालय ने सभी तरह के सोशल मीडिया पर नजर रखने के लिए संबंधित कंपनियों को आदेश दिए हैं। ऐसे मामलों में भारी सजा का प्रावधान है। जाने-अनजाने में किसी भी प्रकार का कोई भी पोर्नोग्राफिक मैटीरियल बच्चों या महिलाओं के संदर्भ में किसी को भी आगे न तो व्हाट्सएप पर भेजें और न ही किसी अन्य सोशल साइट पर फारवर्ड करें। इन सभी मामलों में सख्त कानूनी कार्रवाई की जा रही है। सोशल मीडिया का दुरुपयोग करने वालों पर शिकंजा कसा जाएगा।

अकेले कुल्लू जिला में सात मामले दर्ज

एसपी कुल्लू गौरव सिंह ने कहा कि जिला कुल्लू में ऐसे सात केस दर्ज हुए हैं। सातों मामले ऐसे हैं कि जिनमें किसी व्यक्ति ने अपने दोस्त, रिश्तेदार या नजदीकी व्यक्ति को फेसबुक के माध्यम से न्यूड फोटो या अश्लील वीडियो, जो बच्चों तथा महिलाओं से संबंधित थे, भेजे हैं। इनको फेसबुक के अधिकारियों ने नोटिस किया और उसकी एक रिपोर्ट बनाकर मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स के जरिए शिमला पुलिस साइबर क्राइम थाना को भेजी गई। इनका अवलोकन करने के पश्चात सात लोगों पर मुकदमे दर्ज हुए हैं। उन्होंने लोगों से अपील की है कि सोशल मीडिया के सभी प्लेटफार्म पर किसी भी तरह का पोर्न मैटेरियल भेजना अब आसान नहीं होगा।
loading...

Post a Comment

0 Comments