//]]>
---Third party advertisement---

चामुंडा देवी से जुड़ी कुछ ऐसी विशेष बातें जिनके बारे में शायद ही जानते होंगे आप

maa-chamunda-devi-temple

Maa Chamunda Devi Temple - नमस्कार दोस्तों, स्वागत है आपका हिमाचल से में। आज के इस लेख में हम आपको माँ चामुंडा देवी के रहस्यों के बारे में बताएँगे। हम कुछ ऐसी रोचक जानकारी आपको बताएँगे जो आपको इस से पहले शायद ही पता हों। चामुंडा देवी का जन्म कहाँ हुआ था तथा चामुंडा देवी का त्यौहार कोन सा है, इन सब की जानकारी आज आपको हमारे इस लेख में मिलने वाली है।

पूरे हिमाचल प्रदेश में 2000 से भी ज्यादा मंदिर है और इनमें से ज्यादातर प्रमुख आकर्षक का केन्द्र बने हुए हैं। इन मंदिरो में से एक प्रमुख मंदिर चामुण्डा देवी का मंदिर है जो कि जिला कांगड़ा हिमाचल प्रदेश राज्य में स्थित है। चामुण्डा देवी मंदिर शक्ति के 51 शक्ति पीठो में से एक है। यहां पर आकर श्रद्धालु अपने भावना के पुष्प मां चामुण्डा देवी के चरणों में अर्पित करते हैं। मान्यता है कि यहां पर आने वाले श्रद्धालुओं की सभी मनोकामना पूर्ण होती है। देश के कोने-कोने से भक्त यहां पर आकर माता का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं।

जानिए आखिर क्यों World Famous हैं हिमाचली धाम - हिमाचल से

चामुंडा देवी से जुडी कुछ विशेष बातें - Chamunda Devi

चामुंडा देवी हिन्दू धरम में माँ काली का रूप मानी गयी हैं। परा शक्तिओं की साधना करने वालों की ये देवी आराध्य है।  चामुंडा देवी के जन्म से जुडी एक कथा है। मत्स्य पुराण के अनुसार अंधकासुर नमक राक्षक से युद्ध के समय शिवजी ने मातृकाओं को उत्पन्न किया था। इन्ही मातृकाओं में से एक चामुंडा देवी भी हैं। हालांकि दुर्गा सप्तसती में ये कहा गया है कि चण्ड और मुंड का वध कर जब माँ काली माता चंडी के पास गयीं, तो उन्होंने काली माता को चामुंडा देवी के नाम से प्रसिद्ध होने का वरदान दिया था। 

यस्माच्चण्डं च मुण्डं च गृहीत्वा त्वमुपागता ।चामुण्डेति ततो लोके ख्याता देवी भविष्यसि ॥
 इस प्रकार काली माता चामुंडा देवी के नाम से प्रसिद्ध हुई। चामुंडा देवी की पूजा से जुड़ा सबसे बड़ा पर्व नवरात्री में होता है। इस दौरान चामुंडा देवी की साधना की जाती है। कई लोग गुप्त नवरात्रों के दौरान भी माँ चामुंडा देवी की आराधना कर उन्हें प्रसन्न करने का प्रयास करते हैं। तो ये थी चामुंडा देवी से जुडी कुछ विशेष जानकारी। आपको हमारा ये लेख कैसा लगा कृपा कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसे ही अन्य लेख पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग हिमाचल से के साथ जुड़े रहें।  जय माता दी 

Post a Comment

0 Comments